सतीश पूनियां ने अशोक गहलोत पर साधा निशाना, ट्विटर पर साझा किए एक वीडियो

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   14:59
सतीश पूनियां ने अशोक गहलोत पर साधा निशाना, ट्विटर पर साझा किए एक वीडियो

भाजपा प्रदेशाध्‍यक्ष सतीश पूनियां ने कहा कि हम बोलेंगे तो बोलोगे कि बोलता है... मुख्‍यमंत्री गहलोत जी , घोड़ा खरीद या आपके शब्दों में बकरा मंडी जो भी है, पर कृपया प्रकाश डालें; भाषण देने वाले कांग्रेस के शीर्ष नेता आपकी बाडेबंदी के दौरान मेरे द्वारा उठाये गये सवालों की पुष्टि कर रहे हैं।

जयपुर। राजस्‍थान में गहलोत सरकार की स्थिरता को लेकर कांग्रेस व भाजपा नेताओं के बीच जारी बयानबाजी के बीच भाजपा प्रदेशाध्‍यक्ष सतीश पूनियां ने कहा है कि मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत को अपनी ही पार्टी के एक विधायक के बयान को देखना चाहिए कि राजस्‍थान में हार्स ट्रेडिंग  किसने की है? पूनियां ने शुक्रवार को एक वीडियो ट्विटर पर साझाकिया जिसमें कांग्रेस विधायक महेंद्रजीत मालवीय कथित तौर पर यह कहते सुनाई दे रहे हैं कि भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) के दो विधायकों ने सरकार का समर्थन करने के लिए 10 करोड़ रुपये लिए। मालवीय जनसभा में दिए अपने भाषण में कथित तौर पर कह रहे हैं कि बीटीपी के विधायकों ने राज्‍यसभा चुनाव व बाद के राजनीतिक संकट के दौरान कांग्रेस सरकार का समर्थन करने के लिए पांच-पांच करोड़ रुपये लिए। 

इसे भी पढ़ें: सतीश पूनियां की गहलोत सरकार को नसीहत, बोले- अस्पतालों में बेड और वेन्टिलेटर की व्यवस्था पर दें ध्यान 

पूनियां ने वीडियो साझा करते हुए लिखा, ‘‘हम बोलेंगे तो बोलोगे कि बोलता है... मुख्‍यमंत्री गहलोत जी , घोड़ा खरीद या आपके शब्दों में बकरा मंडी जो भी है, पर कृपया प्रकाश डालें; भाषण देने वाले कांग्रेस के शीर्ष नेता आपकी बाडेबंदी के दौरान मेरे द्वारा उठाये गये सवालों की पुष्टि कर रहे हैं।’’ इस वीडियो व मालवीय के बयान के बारे में प्रतिक्रिया के लिए मालवीय व बीटीपी के विधायक रामप्रसाद और राजकुमार रौत से संपर्क नहीं हो सका।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।