उमर अब्दुल्ला के बयान पर शाहनवाज का पलटवार, बोले- अल्पसंख्यकों के लिए भारत से बेहतर देश नहीं

उमर अब्दुल्ला के बयान पर शाहनवाज का पलटवार, बोले- अल्पसंख्यकों के लिए भारत से बेहतर देश नहीं

अपने बयान में शाहनवाज ने कहा कि उमर अब्दुल्ला भारत के बारे में जिस तरह का बयान दे रहे हैं वो दुर्भाग्यपूर्ण है। जितना अच्छा माहौल आज देश में है, देश मिलकर रह रहा है... पूरी दुनिया में अल्पसंख्यकों के लिए भारत से बेहतर देश नहीं हो सकता।

हाल में ही उमर अब्दुल्ला ने हिजाब विवाद और लाउडस्पीकर विवाद को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा था। अब भाजपा की ओर से भी उमर अब्दुल्ला पर पलटवार किया गया है। बिहार सरकार में मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता शाहनवाज हुसैन ने दावा किया कि अल्पसंख्यकों के लिए भारत से बढ़िया देश कोई नहीं है। अपने बयान में शाहनवाज ने कहा कि उमर अब्दुल्ला भारत के बारे में जिस तरह का बयान दे रहे हैं वो दुर्भाग्यपूर्ण है। जितना अच्छा माहौल आज देश में है, देश मिलकर रह रहा है... पूरी दुनिया में अल्पसंख्यकों के लिए भारत से बेहतर देश नहीं हो सकता।

दरअसल, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा था कि हमारे मज़हब में सियासत के लिए गलत माहौल बनाया जा रहा है। सिर्फ हिजाब की बात नहीं है, हमें कहा जा रहा है कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। अगर बाकि जगहों पर लाउडस्पीकर है तो मस्जिद में क्यों नहीं? ये हमे छेड़ने के लिए जानबूझकर किया जा रहा है। क्योंकि बाकी टाइम लाइट रहती है, लेकिन शहरी और इफ्तार के वक्त अचानक लाइट नहीं होती। कुछ तो हमारे जज्बातों को कद्र करिए।

इसे भी पढ़ें: मस्जिद में लाउडस्पीकर क्यों नहीं हो सकता, इफ्तार के वक्त काट रहे हैं बिजली, उमर अब्दुल्ला ने कहा- कुछ तो हमारे जज्बातों को कद्र करिए

यह पूछे जाने पर कि अब पूरे देश में स्थिति को देखते हुए, क्या उन्हें लगता है कि जम्मू-कश्मीर का भारत में विलय एक गलती थी, नेकां नेता ने नकारात्मक जवाब दिया, और कहा कि कोई भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता था कि चीजें कैसे होंगी। उन्होंने कहा कि कोई भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता था कि चीजें कैसे होंगी। विलय कोई गलती नहीं थी। मुझे विश्वास नहीं है कि भारत ने इस रास्ते को अपरिवर्तनीय रूप से अपनाया है। लेकिन यह चिंता का विषय है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।