शिवराज सिंह चौहान ने की घोषणा सीता माता मंदिर बनाएंगे कमलनाथ

शिवराज सिंह चौहान ने की घोषणा सीता माता मंदिर बनाएंगे कमलनाथ

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने श्रीलंका के अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि मंदिर के निर्माण के लिए मध्यप्रदेश और श्रीलंका के अधिकारियों की एक समिति बनाई जाएगी। मंदिर के साथ ही सांची में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बौद्ध संग्रहालय, अध्ययन एवं प्रशिक्षण केंद्र बनाने पर भी चर्चा हुई। इसकी कार्ययोजना भी जल्द बनाने निर्देश दिए गए हैं।

भोपाल। भाजपा सरकार ने मुख्यमंत्री रहते शिवराज सिंह चौहान ने श्रीलंका में सीता माता का मंदिर बनवाने की घोषणा की थी। लेकिन प्रदेश में भाजपा सरकार के सत्ता से जाने के बाद भी श्रीलंका में बनने वाले सीता माता मंदिर को लेकर कमलनाथ सरकार ने काम शुरू कर दिया है। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने के साफ्ट हिन्दुत्व की राह पर चलने वाले कमलनाथ ने प्रदेश में रामपथ गमन और गौशालाओं के निर्माण को लेकर वचन पत्र में वादा किया था। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कमलनाथ ने इस पर काम भी शुरू कर दिया।

वही श्रीलंका में सीता माता मंदिर को लेकर भी कमलनाथ सरकार सक्रिय हो गई है। इस सिलसिले में सोमवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने श्रीलंका के अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि मंदिर के निर्माण के लिए मध्यप्रदेश और श्रीलंका के अधिकारियों की एक समिति बनाई जाएगी। मंदिर के साथ ही सांची में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बौद्ध संग्रहालय, अध्ययन एवं प्रशिक्षण केंद्र बनाने पर भी चर्चा हुई। इसकी कार्ययोजना भी जल्द बनाने निर्देश दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने निर्देश दिए कि श्रीलंका में सीता मंदिर के भव्य निर्माण के लिए शीघ्र ही एक समिति बनाई जाएगी, जिसमें मध्यप्रदेश एवं श्रीलंका सरकार के अधिकारियों के साथ ही महाबोधि सोसायटी के सदस्य भी शामिल होगें। प्रदेश सरकार द्वारा बनाई जाने वाली समिति मंदिर निर्माण कार्यों की निगरानी करेगी, जिससे मंदिर का निर्माण तय समय में हो सके। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अधिकारीयों को निर्देश दिए कि मंदिर के डिजाइन को अंतिम रूप दिया जाए और इसी वित्तीय वर्ष में आवश्यक धन राशि भी उपलब्ध करवाई जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।