शिवराज सिंह चौहान बोले यह चुनाव बदला लेने का चुनाव, लोगों ने बरसाए छतों से फूल

Shivraj Singh Chauhan
दिनेश शुक्ल । Oct 29, 2020 10:29PM
कमलनाथ ने प्रदेश की जनता के साथ छलावा किया है और इस चुनाव में जनता को इसका बदला भी लेना है। उन्होंने किसानों से कर्जमाफी का वादा कर लिया, लेकिन की नहीं। मेरे भांजे-भांजियों को मैं लैपटॉप देता था तो कमलनाथ ने यह भी देना बंद कर दिया।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरूवार को सांवेर की जनता से कहा कि यह चुनाव गुरूर और घमंड में चूर कमलनाथ और उनकी पार्टी कांग्रेस को सबक सिखाने का चुनाव है। कमलनाथ ने प्रदेश की जनता के साथ छलावा किया है और इस चुनाव में जनता को इसका बदला भी लेना है। सांवेर में रोड शो से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभा को भी संबोधित किया। इस दौरान जहां मुख्यमंत्री के उपर पुष्प वर्षा होती रही तो मुख्यमंत्री ने भी जनता का अभिवादन किया। वे रोड शो के दौरान रास्ते भर जनता को प्रणाम करते चले तो जनता ने भी उन्हें जीत का आशीर्वाद दिया।

 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने 15 माह में प्रदेश का विकास तो नहीं किया, लेकिन खुद की उन्नति खूब कीः कैलाश विजयवर्गीय

सांवेर विधानसभा में भाजपा प्रत्याशी तुलसीराम सिलावट के पक्ष में मुख्यमंत्री का रोड शो सांवेर के सेमलिया चाउ से शुरू हुआ, जो विभिन्न गली-मोहल्लों से होते हुए ज्ञानशिला कालोनी पर समाप्त हुआ। रोड शो के दौरान युवाओं में जहां पुष्प गुच्छ देने की होड़ लगी रही तो मुख्यमंत्री ने भी हर एक से पुष्प स्वीकार किए और युवाओं का मान रखा। रोड शो के दौरान बड़ी संख्या में गाड़ियों का काफिला भी रथ के साथ में था तो वहीं लोग दौड़-दौड़ कर रथ के साथ में चल रहे थे। इस दौरान रास्ते भर आतिशबाजी भी होती रही। रोड शो के दौरान सांवेर का माहौल पूरी तरह से भाजपामय, कमलमय और शिवराज मय था। सांवेर की जनता शाम से ही अपने नेता शिवराज सिंह चौहान के इंतजार में घरों की छतों पर बैठी थी। लोग गलियों में खड़े हो गए थे और जैसे ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का रथ उन गलियों में पहुंचा तो लोगों ने शिवराज सिंह चौहान के साथ ही मामा के जय-जय कारे लगाए और उन्हें जीत का आशीर्वाद भी दिया।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने की सिंधिया के निज सचिव के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि यह चुनाव गुरूर और घमंड में चूर कमलनाथ और उनकी पार्टी कांग्रेस को सबक सिखाने का चुनाव है। कमलनाथ ने प्रदेश की जनता के साथ छलावा किया है और इस चुनाव में जनता को इसका बदला भी लेना है। उन्होंने किसानों से कर्जमाफी का वादा कर लिया, लेकिन की नहीं। मेरे भांजे-भांजियों को मैं लैपटॉप देता था तो कमलनाथ ने यह भी देना बंद कर दिया। मैं बेटियों के कन्यादान के लिए उन्हें राशि देता था तो कमलनाथ ने उसे 51 हजार कर दिया, लेकिन एक धेला नहीं दिया। इसी तरह संबल योजना, तीर्थ दर्शन योजना सहित कई योजनाओं को कमलनाथ ने बंद कर दिया था, लेकिन हमने फिर से इन्हें शुरू कर दिया है और जल्द ही इन योजनाओं का लाभ जनता तक पहुंचेगा। इस दौरान बड़ी संख्या में भाजपा नेता, पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं आमजन मौजूद रहे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़