करारी हार के डर से बौखलाए हैं बुआ-बबुआ: श्रीकांत शर्मा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 11 2019 1:46PM
करारी हार के डर से बौखलाए हैं बुआ-बबुआ: श्रीकांत शर्मा
Image Source: Google

उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा को अपनी करार हार अभी से नजर आ रही है, इसीलिये उसके नेता केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार तथा भाजपा के खिलाफ फुजूल बयानबाजी कर रहे हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव में अपनी आसन्न करारी हार देख कर सपा और बसपा बौखला गयी हैं। शर्मा ने रविवार रात एक बयान में कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता ने बसपा अध्यक्ष मायावती और उनके गठबंधन साथी भतीजे सपा मुखिया अखिलेश यादव के भ्रष्टाचार और कुशासन वाली, भू माफिया, खनन माफिया शराब माफिया अपराधियों को तवज्जो देने वाली सरकार देखी है। उसी जनता ने प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में 'सबका साथ, सबका विकास' के लक्ष्य को लेकर चलने वाली सरकार भी देखी है।

उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा को अपनी करार हार अभी से नजर आ रही है, इसीलिये उसके नेता केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार तथा भाजपा के खिलाफ फुजूल बयानबाजी कर रहे हैं। शर्मा ने दावा किया कि वर्ष 2008 में हुए मुम्बई हमलों के बाद सेना चाहती थी कि पाकिस्तान स्थित आतंकी शिविरों को नष्ट किया जाये लेकिन सपा-बसपा के समर्थन से चल रही केंद्र की कांग्रेस सरकार के पास इच्छा शक्ति नहीं थी। भाजपा ने सेना का मनोबल बढाया तथा उरी और पुलवामा के हमलावरों और उनकी पनाहगाह को नेस्तनाबूत किया। उन्होंने कहा कि जनता मजबूर नहीं मजबूत सरकार चाहती है, जिससे नए भारत के नए उत्तर प्रदेश की मजबूत इमारत का लक्ष्य पूरा हो सके। लिहाजा, जनता झूठ-फरेब, भ्रष्टचार, जातिवाद और तुष्टिकरण को बढावा देने वाले गठबंधन का सूपड़ा साफ़ करेगी और उसे राहत देने वाली मोदी सरकार को प्रचंड बहुमत दिलाएगी।



इसे भी पढ़ें: अजित सिंह का आरोप, चुनाव से पहले सांप्रदायिक उन्माद भड़का रही है BJP

शर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि वह मेट्रो रेल परियोजना को भी पार्टी की तरह खनन माफिया से जुटाई अपनी खुद की सम्पत्ति समझ रहे हैं। उन्हें यह याद होना चाहिए कि विकास योजनाएं उनकी निजी संपत्ति नहीं हैं। नारियल फोडू सपा सरकार ने फोटोअप के लिए परियोजनाओं के शिलापट लगाए थे। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि विकास एवं गरीब विरोधी बसपा प्रमुख मायावती भाजपा पर आरोप लगाने से पहले मूर्ति घोटाले पर सुप्रीम कोर्ट की उस टिप्पणी पर भी गौर कर लें जिसमें अदालत ने जनता की गाढ़ी कमाई से पार्कों में अपनी स्वयं की मूर्ति और चुनाव निशान बनाने में लगी रकम सरकारी खजाने में जमा कराने को कहा है। पहले वह स्मारक घोटाले की रकम सरकार के खजाने में जमा करें यदि वह असमर्थ हैं तो सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव अपनी चुनावी बुआ का सहयोग करें।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story