सिसोदिया की शाह को चुनौती, दिल्ली जैसा कोई सरकारी स्कूल भाजपा शासित राज्य में दिखाएं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2020   09:42
सिसोदिया की शाह को चुनौती, दिल्ली जैसा कोई सरकारी स्कूल भाजपा शासित राज्य में दिखाएं

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और आप नेता मनीष सिसोदिया ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को चुनौती देते हुए शुक्रवार को कहा कि वह भाजपा शासित राज्य का कोई एक सरकारी स्कूल दिखाएं जिसकी तुलना राष्ट्रीय राजधानी के स्कूल की से की जा सकती है।

नयी दिल्ली। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) नेता मनीष सिसोदिया ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को चुनौती देते हुए शुक्रवार को कहा कि वह भाजपा शासित राज्य का कोई एक सरकारी स्कूल दिखाएं जिसकी तुलना राष्ट्रीय राजधानी के स्कूल की से की जा सकती है। उल्लेखनीय है कि गुरुवार को शाह ने आप पर हमला करते हुए पूछा था कि दिल्ली सरकार ने कितने स्कूलों का निर्माण कराया है? शाह को जवाब देते हुए सिसोदिया ने भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह से कहा कि वह उनके विधानसभा क्षेत्र पटपड़गंज में नए बने ‘‘उत्कृष्ट विद्यालय’’ को आकर देखें। 

इसे भी पढ़ें: हरि नगर के विधायक जगदीप सिंह ने वापस लिया इस्तीफा, AAP में ही बने रहेंगे

सिसोदिया ने कहा, ‘‘मुझे नहीं पता कि वह दिल्ली के स्कूल देख रहे थे या दूरबीन से आसमान। हमने हाल में न सिर्फ नए स्कूल बनाए हैं बल्कि काफी हद तक पुराने स्कूलों की मरम्मत भी कराई है।’’ उन्होंने शाह को चुनौती दी कि वह दिल्ली के स्कूलों के मानकों के अनुरूप भाजपा शासित राज्यों का एक स्कूल दिखाएं। सिसोदिया ने कहा, क्या भाजपा के सात सांसदों ने जनता के लिए काम किया है? उन्होंने कहा कि पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को जुमला में नहीं पड़ना चाहिए और अरविंद केजरीवाल सरकार पर हमले के मुद्दे पर भ्रमित नहीं होना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: विधानसभा चुनाव में दिल्ली को मिलेगी एक और शीला दीक्षित: अलका लांबा

अमित शाह की टिप्पणी कि दिल्ली सरकार की मुफ्त वाई-फाई खोजने में फोन की बैटरी खत्म हो जाती है पर पलटवार करते हुए सिसोदिया ने कहा कि वह इससे चिंतित है क्योंकि अगर भारत के गृहमंत्री के फोन की बैटरी खत्म हो गई तो देश रुक जाएगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार की प्रणाली है जिसमें 200 यूनिट तक बिजली मुफ्त मिलती है, मेरा उनसे आग्रह है कि वे उससे हमेशा फोन चार्ज करें क्योंकि बंद पड़े फोन से मुफ्त वाई-फाई की सुविधा नहीं मिलेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।