तो क्या सरकार बनाने के लिए बागी हो गए अजीत पवार ?

तो क्या सरकार बनाने के लिए बागी हो गए अजीत पवार ?

अब प्रदेश को दोबारा देवेंद्र फडणवीस एनसीपी प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजीत पवार के साथ मिलकर चलाएंगे। सूत्रों की माने तो अजीत पवार बागी बने हैं और उनके समर्थन वाले विधायकों का एक बड़ा धड़ा भाजपा के साथ गया है।

मुंबई। महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन के बाद प्रदेश की राजनीति के चाणक्य कहे जा रहे उद्धव ठाकरे सारा घटनाक्रम देखते रह गए। आपको बता दें कि शुक्रवार की रात को तय हो गया था कि शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस मिलकर प्रदेश की सरकार चलाएंगे। लेकिन एक नया मोड़ आ गया और इन तमाम दलों के दावे धरे के धरे रह गए।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने देवेंद्र फडणवीस और अजीत पवार को दी बधाई

अब प्रदेश को दोबारा देवेंद्र फडणवीस एनसीपी प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजीत पवार के साथ मिलकर चलाएंगे। सूत्रों की माने तो अजीत पवार बागी बने हैं और उनके समर्थन वाले विधायकों का एक बड़ा धड़ा भाजपा के साथ गया है। ऐसा इसलिए भी कहा जा रहा है कि क्योंकि मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद जब देवेंद्र फडणवीस ने बयान दिया तो उन्होंने प्रदेश में फिर से सरकार गठन के लिए एनसीपी नेता अजीत पवार को धन्यवाद बोला।

इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने जब ट्वीट करके बधाई दी तो उन्होंने देवेंद्र फडणवीस और अजीत पवार का नाम लिखा। न की एनसीपी प्रमुख शरद पवार का। यह सोचने वाली बात है। इसके अतिरिक्त एक न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए भाजपा विधायक रामकदम ने कहा कि हमारे पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त संख्याबल है। लेकिन जब उनसे सवाल पूछा गया कि क्या शरद पवार आपके साथ हैं तो उन्होंने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

इसे भी पढ़ें: डिप्टी CM बने अजीत पवार, बोले- किसानों की समस्याओं से जूझ रहा था महाराष्ट्र

आपको बता दें कि अब भाजपा को फ्लोर टेस्ट के दौरान अपना बहुमत साबित करना होगा। ऐसा कहा जा रहा है कि अजीत पवार के पास पर्याप्त संख्याबल है जो सरकार को अपना समर्थन दे रहे हैं। हालांकि शरद पवार की इस मसले को स्पष्ट कर पाएंगे कि वह भाजपा के साथ हैं या फिर एनसीपी टूट गई है। क्योंकि बीती रात तक वह तिकड़ी सरकार बनाने के समर्थन में थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।