सपा, बसपा और कांग्रेस को UP चुनाव से पहले लगा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए कई बड़े नेता

सपा, बसपा और कांग्रेस को UP चुनाव से पहले लगा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए कई बड़े नेता

गाजीपुर से विधायक रहे विजय मिश्र और कांग्रेस नेता व तीन बार के पूर्व मंत्री जगनारायण तिवारी, बीएसपी के बूथ अध्यक्ष और दिल्ली के प्रभारी मनोज दिवाकर ने आज अपने समर्थकों के साथ बीजेपी की सदस्यता ले ली। इसके साथ ही 8 अन्य दलों के नेता भी भाजपा में शामिल हो गए।

उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले नेताओं के दल बदलने का क्रम शुरू हो चुका है। इसी कड़ी में रविवार के दिन समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस को यूपी चुनाव से ठीक पहले करारा झटका लगा है। गाजीपुर से विधायक रहे विजय मिश्र और कांग्रेस नेता व तीन बार के पूर्व मंत्री जगनारायण तिवारी, बीएसपी के बूथ अध्यक्ष और दिल्ली के प्रभारी मनोज दिवाकर ने  आज अपने समर्थकों के साथ बीजेपी की सदस्यता ले ली। इसके साथ ही 8 अन्य दलों के नेता भी भाजपा में शामिल हो गए। लखनऊ में BJP कार्यालय में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने इन नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई। इससे चुनाव से पहले बीजेपी और मजबूत होती नजर आ रही है। 

इसे भी पढ़ें: यूपी के सुल्तानपुर में किसान नेता की गोलीमार के हत्या की गई

बीजेपी में शामिल होने वाले जयनारायण तिवारी कांग्रेस और सपा से विधायक रह चुके हैं। वहीं विजय मिश्रा सपा की पिछली सरकार में मंत्री थे। साल 2017 में वो बसपा में शामिल हो गए थे। इसके बीजेपी में शामिल होने वाले राम शिरोमणि शुक्ला कांग्रेस पार्टी से संबंध रखते हैं। वो कांग्रेस की टिकट पर विधानसभा का चुनाव जीत चुके हैं। 

बीजेपी में आज से यानी 28 नवंबर से दूसरे दलों से आए नेताओं के शामिल होने का सिलसिला चलेगा। 3 दिनों तक चलने वाले ज्वाइनिंग में सपा, बसपा और कांग्रेस के पूर्व विधायकों के अलावा पूर्व जिला पंचायत सदस्य व स्थानीय निकाय के एमएलसी बीजेपी की सदस्यता लेंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार करीब एक दर्जन से ज्यादा लोग रोज बीजेपी का दामन थामेंगे।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।