मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने का बयान देने की बात साबित हुई तो राजनीति छोड़ दूंगा : हरीश रावत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 29, 2022   09:57
मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने का बयान देने की बात साबित हुई तो राजनीति छोड़ दूंगा : हरीश रावत

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के एक नेता के समर्थकों पर उनकी छवि खराब करने का आरोप लगाया है। रावत ने कहा है कि अगर यह साबित हो जाता है कि उन्होंने कभी राज्य में मुस्लिम विश्वविद्यालय की स्थापना करने को लेकर बयान दिया था तो वह राजनीति छोड़ देंगे।

देहरादून। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के एक नेता के समर्थकों पर उनकी छवि खराब करने का आरोप लगाया है। रावत ने कहा है कि अगर यह साबित हो जाता है कि उन्होंने कभी राज्य में मुस्लिम विश्वविद्यालय की स्थापना करने को लेकर बयान दिया था तो वह राजनीति छोड़ देंगे। भाजपा ने उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के प्रचार अभियान के प्रमुख हरीश रावत के इस कथित बयान को चुनावों से पहले एक प्रमुख मुद्दा बना दिया था।

इसे भी पढ़ें: अनुराग ठाकुर का दावा, भारत को ‘कंटेंट’ निर्माण का वैश्विक केंद्र बनाना मेरा लक्ष्य

राज्य के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 70 में से 47 सीटें जीतकर लगातार दूसरी बार सरकार बनाई है। रावत ने रविवार को फेसबुक पर जारी एक पोस्ट में कहा, चुनाव में हमारी हार के बाद काफी समय से बिना किसी वजह के मेरे खिलाफ सोशल मीडिया पर बेबुनियाद आरोपों की बौछार की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: तेलंगाना में किशोरी का शव बरामद, पुलिस ने दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जताई

भाजपा समर्थकों के अलावा, हमारे एक नेता से जुड़े कुछ लोग भी मुझ पर निशाना साध रहे हैं। उन्हें लगता है कि यह राजनीति में मेरा अस्तित्व खत्म करने का एक अवसर है। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि राज्य में मुस्लिम विश्वविद्यालय स्थापित करने का उनका कथित बयान साबित हो जाता है तो वह महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास बैठकर राजनीति छोड़ने की घोषणा कर देंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।