खुले में शौच की हकीकत जानने के लिए ट्रेन से यात्रा करें PM मोदी: भाकपा सांसद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2019   09:15
खुले में शौच की हकीकत जानने के लिए ट्रेन से यात्रा करें PM मोदी: भाकपा सांसद

भाकपा सांसद बिनॉय विश्वम ने मोदी को लिखे पत्र में कहा कि दो अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती से कुछ दिन पहले दो दलित बच्चों की मौत की जांच कराई जानी चाहिये और प्रधानमंत्री को अपने भाषण में इस घटना का जिक्र करना चाहिये।

नयी दिल्ली। भाकपा सांसद बिनॉय विश्वम ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से अनुरोध किया है कि वह देश को खुले में शौच से मुक्त बनाने के लिये चलाये जा रहे अभियान के बावजूद हालात की हकीकत जानने के लिये सुबह के वक्त ट्रेन से उत्तर भारत के किसी राज्य की यात्रा करें। बिनॉय ने मध्य प्रदेश में खुले में शौच करने को लेकर दो दलित बच्चों की कथित तौर पर पिटाई से मौत होने के बाद यह कहा। विश्वम ने मोदी को लिखे पत्र में कहा कि दो अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती से कुछ दिन पहले दो दलित बच्चों की मौत की जांच कराई जानी चाहिये और प्रधानमंत्री को अपने भाषण में इस घटना का जिक्र करना चाहिये। 

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में ओडीएफ के नाम पर दो दलित बच्चों की ''पीट-पीटकर हत्या''

उन्होंने लिखा कि इस साल दो अक्टूबर को आप भारत को ‘खुले में शौच से मुक्त’ देश घोषित करेंगे...मैं आपसे सुबह के वक्त ट्रेन से किसी भी उत्तर भारतीय राज्य की यात्रा का अनुरोध करता हूं। जब हमारी यह हकीकतहै तो यह घोषणा कितनी सही है? उन्होंने कहा कि इससे पहले कि आप दो अक्टूबर को गांधीजी की स्मृति में भारत को खुले में शौच से मुक्त देश घोषित करें, इन दोनों बच्चों की मौतों के बारे में जानकारी जुटा लें। विश्वम ने लिखा कि इन बच्चों को उनके स्कूल में अन्य बच्चों के साथ शौचालय साझा नहीं करने दिया गया या कुएं से पानी नहीं लेने देने गया, उनकी अब हत्या कर दी गई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।