ईओडब्ल्यू ने सिटी प्लानर को रिश्वत लेते किया गिरफ्तार, बिल्डर पर दबाब बनाकर मांग रहा था रकम

ईओडब्ल्यू ने सिटी प्लानर को रिश्वत लेते किया गिरफ्तार, बिल्डर पर दबाब बनाकर मांग रहा था रकम

बिल्डर पांच लाख रुपये लेकर पहुंचा था, जबकि सिटी प्लानर वर्मा अपनी कार से वहां पहुंचा। कार में जैसे ही सिटी प्लानर ने बिल्डर से पांच लाख रुपये की रिश्वत ली तो ईओडब्ल्यू ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।

ग्वालियर। नगर निगम सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा को आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) की टीम ने शनिवार को दोपहर साढ़े तीन बजे पांच लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। टीम आरोपित को लेकर विश्वविद्यालय थाने पहुंची। थाटीपुर पानी की टंकी के पास रहने वाले एक बिल्डर की इमारत पर दो माह पहले सिटी प्लानर ने बुलडोजर लगा दिया था। तुड़ाई के डर से सहमें बिल्डर ने सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा से बात की तो तुड़ाई रूकवाने के लिए पचास लाख रुपये की मांग की गई। बिल्डर ने कोरोना के कारण आर्थिक संकट बताया तो तय हुआ कि दस लाख रुपये अभी देना होंगे और बाकी रकम बाद में दे दी जाएगी।

इसे भी पढ़ें: अनियंत्रित कार ने ली युवक की जान, इंदौर बीआरटीएस रेलिंग तोड़कर घुसी कार

बिल्डर के मुताबिक उसने सिटी प्लानर को दस लाख रुपये तत्काल दे दिए थे। इसके बाद अब फिर से सिटी प्लानर बाकी रकम के लिए उस पर दबाव बना रहा था। दोनों पक्षों में बातचीत के बाद सौदा पच्चीस लाख में तय हो गया था। उधर बिल्डर ने इसकी शिकायत ईओडब्ल्यू में दर्ज करा दी थी। शनिवार को दोपहर में पैसे लेने के लिए बिल्डर ने सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा को एसपी ऑफिस बालाजी गार्डन के पास बुलाया था।

इसे भी पढ़ें: तीन शिकारियों ने करंट लागकर ली हाथी की जान, जबलपुर वनमंडल का मामला

जहाँ बिल्डर पांच लाख रुपये लेकर पहुंचा था, जबकि सिटी प्लानर वर्मा अपनी कार से वहां पहुंचा। कार में जैसे ही सिटी प्लानर ने बिल्डर से पांच लाख रुपये की रिश्वत ली तो ईओडब्ल्यू ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद आरोपित का विश्वविद्यालय थाने ले जाया गया है। घर पर भी कार्रवाई जारीः पांच लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार हुए सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा के विनय नगर स्थित निवास पर भी ईओडब्ल्यू की टीम कार्रवाई करने पहुंच गई है। वहां पर दस्तावेजों के साथ यह भी देखा जा रहा है कि आय से अधिक संपत्ति तो अधिकारी ने अर्जित नहीं की है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।