मध्य प्रदेश में विभिन्न राज्यों से श्रमिकों की वापसी का सिलसिला अभी तक जारी, प्रदेश में 5 लाख 14 हजार श्रमिक वापस लौटे

मध्य प्रदेश में विभिन्न राज्यों से श्रमिकों की वापसी का सिलसिला अभी तक जारी,  प्रदेश में 5 लाख 14 हजार श्रमिक वापस लौटे

अपर मुख्य सचिव एवं प्रभारी स्टेट कंट्रोल रूम आई.सी.पी. केशरी ने जानकारी देते हुए बताया कि अब तक गुजरात से 2 लाख 5 हजार, राजस्थान से एक लाख 13 हजार, महाराष्ट्र से एक लाख 20 हजार श्रमिक वापस लाये गये हैं। इसके साथ ही गोवा, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, केरल, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना से भी श्रमिक लाये गये हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश में अभी तक दूसरे राज्यों में लॉक डाउन के दौरान फंसे मजदूरों की वापसी का सिलसिला जारी है। अब तक 5 लाख 14 हजा श्रमिक विभिन्न प्रदेशों से वापस लाये जा चुके हैं। जिनमें से करीब 3 लाख 60 हजार श्रमिक बसों से ओर एक लाख 54 हजार ट्रेनों से लाये गये हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार विभिन्न प्रदेशों में फँसे श्रमिकों का वापस लाने का कार्य लगातार जारी है।प्रदेश के अपर मुख्य सचिव एवं प्रभारी स्टेट कंट्रोल रूम आई.सी.पी. केशरी ने जानकारी देते हुए बताया कि अब तक गुजरात से 2 लाख 5 हजार, राजस्थान से एक लाख 13 हजार, महाराष्ट्र से एक लाख 20 हजार श्रमिक वापस लाये गये हैं। इसके साथ ही गोवा, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, केरल, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना से भी श्रमिक लाये गये हैं।

 

इसे भी पढ़ें: मंत्रिमंडल समूह ने छिंदवाड़ा में जमीन अधिग्रहण के पहले कर दिए गए 450 करोड़ भुगतान की फाइल की तलब

केशरी ने बताया कि अब तक 122 ट्रेन आ चुकी हैं। मुख्य रूप से महाराष्ट्र से 35, गुजरात से 27, हरियाणा से 15, तेलंगाना और पंजाब से 7-7, कर्नाटक से 4, गोवा से 3 और तमिलनाडु, केरल राजस्थान दिल्ली और जम्मू से 2-2 ट्रेनें आ चुकी हैं। कुल 130 ट्रेन आने की संभावना है। अभी तक प्रदेश के बाहर के करीब 3 लाख 70 हजार श्रमिकों को अन्य प्रदेशों की सीमा तक बसों से पहुँचाया जा चुका है। इस कार्य में आज से 800 बसें और जोड़ दी गई हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।