ओलंपिक की सुनहरी यादें ताजा कर गई हरियाणा की झांकी

tableau of Haryana
झांकी की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि इसमें श्री योगेश्वर दत्त, श्री बजरंग पुनिया, कुमारी रानी रामपाल और सुमित अंतिल सहित कई अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों की मौजूदगी रही। इन खिलाड़ियों ने ओलंपिक से लेकर एशियन और राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतकर देश का मान बढ़ाया है। झांकी के माध्यम से देश के सभी राज्यों व अन्य राष्ट्रों को न केवल हरियाणा की खेल प्रतिभाओं से नई प्रेरणा मिली

चंडीगढ़  गणतंत्र दिवस के अवसर पर ‘हरियाणा-खेलों में नंबर-वन’ की थीम पर आधारित हरियाणा की झांकी ने ओलंपिक की यादें एक बार फिर ताजा कर दीं। इस झांकी ने हरियाणा वासियों सहित देश की जनता में जोश भर दिया। जब झांकी की पहली झलक देशवासियों ने देखी तो लगा मानों उनके सामने कोई अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता हो रही है, जिसमें भारतीय खिलाड़ियों ने जीत का परचम लहराकर तिरंगे को फहराया हो और दुनिया के पटल पर भारत का मान बढ़ाया हो।

 

झांकी की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि इसमें श्री योगेश्वर दत्त, श्री बजरंग पुनिया, कुमारी रानी रामपाल और सुमित अंतिल सहित कई अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों की मौजूदगी रही। इन खिलाड़ियों ने ओलंपिक से लेकर एशियन और राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतकर देश का मान बढ़ाया है। झांकी के माध्यम से देश के सभी राज्यों व अन्य राष्ट्रों को न केवल हरियाणा की खेल प्रतिभाओं से नई प्रेरणा मिली बल्कि वे इस छोटे से राज्य की बड़ी उपलब्धियों के भी साक्षी बने। राजपथ पर आकर्षण का केंद्र रही हरियाणा की यह झांकी अब  Best tableau ( बेस्ट टैबल्यू ) प्रतियोगिता में दूसरे राज्यों की झांकियों को कड़ी टक्कर दे रही है।

 

इसे भी पढ़ें: साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में प्रोफेसर रघुवेंद्र तंवर का नाम पदमश्री अवार्ड के लिए हुआ नामित

 

‘विजय रथ’ रूपी इस झांकी को सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग ने अथक मेहनत से तैयार किया था। दो हिस्सों में बनी हरियाणा की झांकी के अगले हिस्से में घोड़े व भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति के प्रतीक शंख थे। घोड़ों से जुता रथ महाभारत युद्ध के "विजय रथ" का प्रतीक है। यहां रखा शंख भगवान श्रीकृष्ण के शंख का प्रतीक है। झांकी के दूसरे हिस्से को चार भागों में बांटा गया था। इसके पहले भाग में ओलंपिक की तर्ज पर बने अखाड़े में दो पहलवान कुश्ती का प्रदर्शन कर रहे थे। इसके पीछे के दो हिस्सों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के हरियाणा के 10 ख्याति प्राप्त खिलाड़ी खड़े थे। झांकी के अंतिम हिस्से पर भाला फेंकने की मुद्रा में ओलंपियन नीरज चोपड़ा की आदमकद प्रतिकृति थी तो झांकी के दोनों ओर हाई रिलीफ में हरियाणा के चुनिंदा खेलों जैसे बॉक्सिंग, वेट लिफ्टिंग, शूटिंग, डिस्कस थ्रो व हॉकी के खिलाड़ियों की गतिविधियों को उकेरा गया था।

इसे भी पढ़ें: ग्राम संरक्षक बन समाज के प्रति अपना दायित्व निभाएं अधिकारी - मुख्यमंत्री

उल्लेखनीय है कि खेलों की राजधानी हरियाणा के खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की विभिन्न प्रतियोगिताओं में अपना शानदार प्रदर्शन करते हैं। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में हरियाणा सरकार भी खिलाड़ियों को बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। मुख्यमंत्री का कहना है कि कृषि हमारा कर्म, देशसेवा एवं राष्ट्रभक्ति हमारा धर्म और खेल हमारा जुनून है। इसी जुनून के चलते हरियाणा खेलों में नंबर-1 बना हुआ है।

इसे भी पढ़ें: असली गणतंत्र अंतिम व्यक्ति का उदयः मुख्यमंत्री मनोहर लाल

हरियाणा की यह झांकी आपको कैसी लगी इसका फीडबैक भी दिया जा सकता है। हरियाणा की झांकी को वोट करने के लिए सबसे पहले https://mygov.in/.../vote-your-favorite-tableau-republic.../ पर जाएं। इसके बाद Mobile Number के जरिये ओटीपी से साइन इन करें। इसके बाद tableau के poll पर जाएं। इसमें state tableau के विकल्प पर जाकर 3 नंबर पर हरियाणा के लिए वोट करें।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़