अंग्रेजों के आने से पहले समाज सेवा के लिए अनुमति की जरूरत नहीं थी: आरएसएस नेता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 8, 2021   05:28
अंग्रेजों के आने से पहले समाज सेवा के लिए अनुमति की जरूरत नहीं थी: आरएसएस नेता
प्रतिरूप फोटो

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस)के वरिष्ठ नेता सुरेश उर्फ भैयाजी जोशी बृहस्पतिवार कोआरएसएस से संबद्ध लोक समस्या संशोधन और लोक कल्याण समिति की पहल लोक कल्याण डायग्नोस्टिक्स प्रयोगशाला के जीर्णोद्धार के संपन्न होने के मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

नागपुर| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस)के वरिष्ठ नेता सुरेश उर्फ भैयाजी जोशी ने बृहस्पतिवार को कहा कि अंग्रेजों के आने से पहले भारत में समाज सेवा के लिए किसी को अनुमति की जरूरत नहीं थी।

वह यहां आरएसएस से संबद्ध लोक समस्या संशोधन और लोक कल्याण समिति की पहल लोक कल्याण डायग्नोस्टिक्स प्रयोगशाला के जीर्णोद्धार के संपन्न होने के मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: सतत विकास में भारत के दृढ़ विश्वास को लेकर विश्व उसकी ओर देख रहा: भागवत

उन्होंने कहा कि सेवा करना भारत के खून में है। जोशी ने कहा कि ब्रिटिश काल से पहले समाज सेवा या सामाजिक कार्य किसी संगठन द्वारा नहीं किया जाता था बल्कि लोग स्वयं सेवा करते थे।

आरएसएस नेता ने पूछा, भारत में संगठनों के माध्यम से समाज सेवा कभी नहीं की गई। इसकी शुरुआत अंग्रेजों के आने के बाद से हुई, जिसमें अगर आप कुछ भी करना चाहते हैं तो आपको सरकार से अनुमति की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ें: भागवत ने लोगों के बीच देशभक्ति का संचार करने के लिए जम्मू कश्मीर में संघ की शाखाएं खोलने पर जोर दिया





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।