एमसीयू भोपाल में तीन दिवसीयअंतरराष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन

एमसीयू भोपाल में तीन दिवसीयअंतरराष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन

इस तीन दिवसीय कांफ्रेंस में 7 तकनीकी सत्र होंगे जिनमें नेपाल से डॉ. निर्मल मणी अधिकारी; दुबई से डॉक्टर आफताब अहमद; कनाडा से विवेक राव; आईआईएम इंदौर से डॉक्टर एस.आर. दास; ग्वालियर से डॉक्टर यू. होलानी; नेपाल से लक्ष्मण डी. पंत और दिल्ली से डॉ. टिमिरा शुक्ला अलग-अलग सत्रों के मुख्य वक्ता होंगे।

भोपाल। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय भोपाल द्वारा “इनोवेटिव बिजनेस प्रैक्टिसेज इन डिजिटल एरा” विषय पर तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस आयोजित की जा रही है। विश्वविद्यालय के मीडिया प्रबंधन विभाग द्वारा 28 से 30 दिसंबर 2020 को आयोजित इस अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में अमेरिका, श्रीलंका, नेपाल दुबई से भी अकादमिक विशेषज्ञ भाग ले रहे हैं। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 28, दिसंबर को सुबह 11 बजे इस कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन करेंगे। उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. के.जी. सुरेश करेंगे।

इसे भी पढ़ें: मामा माणिकचन्द्र वाजपेयी के जन्म शताब्दी वर्ष पर जारी होगा डाक टिकिट

विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. अविनाश वाजपेई ने जानकारी देते हुए बताया कि सीईओ, एमसीएम (प्राइम) यू.एस.ए. डॉ. मिहालिस हल्कडिस कॉन्फ्रेंस के उद्घाटन सत्र में मुख्य वक्ता होंगे। जबकि कांफ्रेंस के समापन सत्र में कोलंबो चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष जी सुमनसेकरा; डॉ. मिशेल प्लेजेंट, प्राध्यापक प्रबंधन विभाग, यूनिवर्सिटी ऑफ क्यूबिक कनाडा; डॉ. प्रॉस्पर बर्नार्ड प्रोफेसर मुख्य वक्ता होंगे। इस तीन दिवसीय कांफ्रेंस में 7 तकनीकी सत्र होंगे जिनमें नेपाल से डॉ. निर्मल मणी अधिकारी; दुबई से डॉक्टर आफताब अहमद; कनाडा से विवेक राव; आईआईएम इंदौर से डॉक्टर एस.आर. दास; ग्वालियर से डॉक्टर यू. होलानी; नेपाल से लक्ष्मण डी. पंत और दिल्ली से डॉ. टिमिरा शुक्ला अलग-अलग सत्रों के मुख्य वक्ता होंगे।

इसे भी पढ़ें: नाबालिग लड़की का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाला आरोपी युवक गिरफ्तार

इस कांफ्रेंस में कोविड महामारी के दौरान मीडिया की भूमिका, बिजनेस कॉपिंग-अप, वर्चुअल कॉन्फ्रेंस का महत्व, डिजिटल एरा में प्रभावी कम्युनिकेशन, अकादमिक शोध और डिजिटलाइजेशन का व्यापार और उद्यमिता पर प्रभाव और उपभोक्ता खरीदारी व्यवहार से संबंधित विषयों पर तकनीकी सत्र होंगे। इन सत्रों में लगभग 42 से अधिक रिसर्च स्कॉलर अपने शोध पत्र प्रस्तुत करेंगे। प्रो. डॉ. कंचन भाटिया इस कांफ्रेंस की चेयरपर्सन, सहायक प्राध्यापक डॉ. कपिल आर. चंदोरिया संयोजक और डॉ. मनीषा वर्मा सहसंयोजक हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।