कांग्रेस की बुलाई बैठक में शामिल नहीं हुई टीएमसी, दिए रास्ते अलग होने के संकेत

कांग्रेस की बुलाई बैठक में शामिल नहीं हुई टीएमसी, दिए रास्ते अलग होने के संकेत

अभी हाल में जब ममता बनर्जी दिल्ली आई हुईं थी तो उन्होंने सोनिया गांधी से मुलाकात नहीं की। जिससे सियासी गलियारों में ये बात कही जाने लगी की टीएमसी और कांग्रेस में दूरियां बढ़ गई हैं। ममता खुद को मोदी के आक्रमक विकल्प के रूप में पेश कर रही हैं। इसी मुहीम में उन्होंने, गोवा में कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री को पार्टी में शामिल कराया।

संसद का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। संसद का सत्र शुरू होने से पहले कांग्रेस ने एक मीटिंग बुलाई थी। यह मीटिंग राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने बुलाई थी। इस मीटिंग का मकसद था कि संसद में  जिन मुद्दों पर सरकार को घेरना है, उन मुद्दों पर दलों में आम राय कायम की जा सके। लेकिन  टीएमसी इस मीटिंग में शामिल नहीं हुई। टीएमसी नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी मल्लिकार्जुन खड़गे द्वारा बुलाई विपक्ष की बैठक में शामिल नहीं होगी। ऐसा करके टीएमसी ने जता दिया है कि अभी उसके और कांग्रेस के रास्ते अलग अलग है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के सिपहसालारों को मिल रहा ममता का साथ, भाजपा से टक्कर लेने के लिए 'दीदी' ढहा रही पुराने सहयोगी का किला

सोमवार को मल्लिकार्जुन खड़गे ने यह मीटिंग कांग्रेस दफ्तर में पौने दस बजे बुलाई थी। खड़गे ने इसे लेकर कहा था, 29 नवंबर की इस बैठक के लिए सभी विपक्षी दलों को न्योता दिया गया है। इस बैठक में आगामी सत्र को लेकर रणनीति बनाई जाएगी।इससे पहले टीएमसी के एक नेता ने शनिवार को ही कहा था कि पार्टी की कोई दिलचस्पी नहीं है कि वह इस शीतकालीन सत्र में कांग्रेस के साथ तालमेल करे।

कांग्रेस और टीएमसी के रिश्तों में बढ़ी खटास

अभी हाल में जब ममता बनर्जी दिल्ली आई हुईं थी तो उन्होंने सोनिया गांधी से मुलाकात नहीं की। जिससे सियासी गलियारों में ये बात कही जाने लगी की टीएमसी और कांग्रेस में दूरियां बढ़ गई हैं। ममता खुद को मोदी के आक्रमक विकल्प के रूप में पेश कर रही हैं। इसी मुहीम में उन्होंने, गोवा में कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री को पार्टी में शामिल कराया। इसके बाद कृती आज़ाद, अशोक तंवर और पवन वर्मा जैसे नेताओं ने टीएमसी का दामन थाम लिया। ममता जब दिल्ली में थी तब टीएमसी ने मेघालय में कांग्रेस के 17 में से 12 विधायकों को तोड़ लिया। जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा भी शामिल थे। ममता के दिल्ली दौरे के दौरान जब उनसे, सोनिया गांधी से मिलने को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा था ,संविधान में ऐसा कहां लिखा है की सोनिया गांधी से मिलना जरूरी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।