सरकारी स्कूलों में बनाई जाए ट्रांसपोर्ट विंग - मुख्यमंत्री

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2022   07:08
सरकारी स्कूलों में बनाई जाए ट्रांसपोर्ट विंग - मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने आगामी सत्र के लिए 134-ए के तहत होने वाले दाखिलों के संबंध में पहले से ही रणनीति बनाने के लिए भी अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आगामी सत्र में किसी भी पात्र विद्यार्थी को 134-ए के तहत दाखिले से वंचित नहीं रहने दिया जाएगा। इसके अलावा हरियाणा सरकार मॉडल संस्कृति स्कूलों की संख्या को भी बढ़ाने जा रही है।

चंडीगढ़।  मुख्यमंत्री  मनोहर लाल ने कहा कि जिन गांवों में स्कूल ज्यादा दूरी पर हैं, वहां सरकारी स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा ट्रांसपोर्ट की सुविधा उपलब्ध करवाई जानी चाहिए। इसके लिए स्कूल ट्रांसपोर्ट विंग की भी स्थापना की जाए और स्कूल शिक्षक को ट्रांसपोर्ट का नोडल आफिसर बनाया जाए। मुख्यमंत्री शुक्रवार को स्कूल शिक्षा विभाग से जुड़े अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।इस बैठक में शिक्षा मंत्री श्री कंवरपाल भी मौजूद रहे।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन स्कूलों में कम बच्चे हैं, वहां पर छोटे वाहन की व्यवस्था की जा सकती है। इसके अलावा जहां अधिक बच्चे हैं, वहां बड़ा वाहन लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि किसी भी जिले में शिक्षकों की कमी नहीं रहने दी जाएगी। इसके लिए  सार्थक दिशा में विचार विमर्श किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: राज्य सरकार द्वारा नशे को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जा रहे ---मनोहर लाल

मुख्यमंत्री ने आगामी सत्र के लिए 134-ए के तहत होने वाले दाखिलों के संबंध में पहले से ही रणनीति बनाने के लिए भी अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आगामी सत्र में किसी भी पात्र विद्यार्थी को 134-ए के तहत दाखिले से वंचित नहीं रहने दिया जाएगा। इसके अलावा हरियाणा सरकार मॉडल संस्कृति स्कूलों की संख्या को भी बढ़ाने जा रही है। अत्याधुनिक सुविधाओं वाले इन स्कूलों में भी ऐसे विद्यार्थियों के दाखिले करवाए जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा में पशुपालन, शूकर पालन, मत्स्य पालन की 25 हजार ईकाइयां स्थापित की जाएंगी

मुख्यमंत्री ने इस बैठक के दौरान शिक्षकों की ऑनलाइन ट्रांसफर पॉलिसी, मेवात में टीचिंग वालंटियर लगाए जाने के संबंध में भी अधिकारियों को निर्देश दिए। इस बैठक में एसीएस श्री महावीर सिंह, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ. अमित अग्रवाल, सेकेंडरी एजुकेशन के महानिदेशक श्री जे गणेशन, प्राथमिक शिक्षा के निदेशक श्री अंशज सिंह सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।