TRS ने जारी की 17 उम्मीदवारों की सूची, निजामाबाद से मिला KCR की बेटी को टिकट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 22, 2019   09:06
TRS ने जारी की 17 उम्मीदवारों की सूची, निजामाबाद से मिला KCR की बेटी को टिकट

टीआरएस ने हैदराबाद से पी. श्रीकांत को टिकट दिया है, जहां से पार्टी की सहयोगी एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन औवेसी चुनाव लड़ रहे हैं।

हैदराबाद। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने 11 अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए बृहस्पतिवार को 17 उम्मीदवारों की सूची का ऐलान किया। इसमें पार्टी प्रमुख और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की बेटी के. कविता को निजामाबाद से फिर से टिकट दिया गया है। वह इसी सीट से सांसद हैं। टीआरएस ने हैदराबाद से पी. श्रीकांत को टिकट दिया है, जहां से पार्टी की सहयोगी एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन औवेसी चुनाव लड़ रहे हैं। टीआरएस हैदराबाद में लोगों से औवेसी को विजयी बनाने की अपील कर रही है। फिर भी पार्टी ने हैदराबाद से अपना प्रत्याशी उतारा दिया लिहाजा टीआरएस और एआईएमआईएम के बीच गंभीर मुकाबला होने की संभावना नहीं है।

इसे भी पढ़ें: चंद्रबाबू नायडू को बड़ा झटका, नागेश्वर राव टीआरएस में शामिल

पार्टी ने करीमनगर से बी विनोद कुमार को फिर से टिकट दिया है जबकि कुछ सांसदों का टिकट काटा है। सूची में अन्य उम्मीदवारों में, बी वेंकटेश नेताकानी (पेद्दापल्ली), जी नागेश (आदिलाबाद), बी बी पाटिल (जाहिराबाद), के. प्रभाकर रेड्डी (मेडक) के नाम शामिल हैं। इनके अलावा, पसूनूरी दयाकर (वारंगल), मलोथ कविता (महबूबाबाद), एन. नागेश्वर राव (खम्मम), बी नरसैया गौड (भोंगीर), वेमिरेड्डी नरसिम्हा रेड्डी (नलगोंडा) को भी टिकट दिया गया है। पार्टी ने पोथुगांती रामुलु (नगरकुर्नूल), मन्ने श्रीनिवास रेड्डी (महबूबनगर), जी रंजीत रेड्डी (चेवेला), टी साई किरण यादव (सिकंदराबाद) और एम. राजशेखर रेड्डी (मलकाजगिरी) अपना प्रत्याशी बनाया है। तेलंगाना में 17 लोकसभा सीटें हैं। इन सभी सीटों पर 11 अप्रैल को होने वाले पहले चरण के चुनाव में मतदान होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।