एफसीआई क्लर्क के घर सीबीआई का छापे में दो करोड़ से अधिक नगदी और सोना-चांदी बरामद

एफसीआई क्लर्क के घर सीबीआई का छापे में दो करोड़ से अधिक नगदी और सोना-चांदी बरामद

दिल्ली की सिक्योरिटी एजेंसी से रिश्वत लेने के आरोप में ये कार्रवाई की गई है। बता दें शुक्रवार को एफसीआई के तीन मैनेजर सहित किशोर मीणा की गिरफ्तारी की गई थी। शुक्रवार रात से किशोर मीणा के घर पर सीबीआई की छानबीन जारी है।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के छोला इलाके में एफसीआई के क्लर्क किशोर मीणा के घर शुक्रवार रात को पड़ा सीबीआई का छापा जारी है। छापे की कार्रवाई में अब तक 2 करोड़ 17 लाख नगद, 8 किलो सोना भी जब्त किया गया है। सीबीआई की जांच अब भी जारी है। दिल्ली की सिक्योरिटी एजेंसी से रिश्वत लेने के आरोप में ये कार्रवाई की गई है। बता दें शुक्रवार को एफसीआई के तीन मैनेजर सहित किशोर मीणा की गिरफ्तारी की गई थी। शुक्रवार रात से किशोर मीणा के घर पर सीबीआई की छानबीन जारी है। बताया जा रहा है कि सीबीआई को लेनदेन से संबंधित कई रिकॉर्ड मिले हैं। 

 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार के 7 साल पूरे होने पर जनता खुद को ठगा महसूस कर रही है- कमलनाथ

सूत्रों का कहना है कि एफसीआई के अधिकारी रिश्वत की रकम क्लर्क के घर पर रखते थे। यहां से एक डायरी भी मिली है, जिसमें रिश्वत लेने की जानकारी दर्ज है। सीबीआई की कार्रवाई अभी जारी है। सुरक्षा एजेंसी के बिलों के भुगतान के लिए रिश्वत मांगने के मामले में भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के भोपाल स्थित कार्यालय के चार अधिकारियों और कर्मचारियों को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने गिरफ्तार किया है। सीबीआई ने इन्हें एक लाख रुपये लेते रंगे हाथों पकड़ा है। सुरक्षा एजेंसी का मुख्यालय गुरुग्राम में है।

 

इसे भी पढ़ें: तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सांरग ने लिखा डॉ.हर्षवर्धन को पत्र

रिश्वत की राशि नहीं मिलने पर बिलों का भुगतान नहीं किए जाने पर एजेंसी ने सीबीआई को शिकायत की थी। जानकारी के अनुसार, गुरुग्राम स्थित सुरक्षा एजेंसी कैप्टन कपूर एंड संस को इस वर्ष जनवरी में गार्ड की तैनाती के लिए 11 लाख 30 हजार रुपये प्रतिमाह पर टेंडर मिला था। एफसीआइ के अधिकारी एजेंसी से बतौर रिश्वत प्रतिमाह 10 फीसद कमीशन मांग रहे थे। जब इन्हें रिश्वत नहीं दी गई तो बिलों का भुगतान रोक दिया गया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।