नहीं थम रही पश्चिम बंगाल नें हिंसा, भाटपाड़ा में हुई झड़प में दो लोगों की मौत

two-people-were-killed-and-11-injured-in-a-clash-between-west-bengal-bhatpada
एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पांच लोगों को इस झड़प के संबंध में गिरफ्तार किया गया है। राज्य सरकार ने बैरकपुर पुलिस आयुक्त तन्मय राय चौधरी को पद से हटा दिया है और उनकी जगह मनोज कुमार वर्मा को नियुक्त किया है। वह पहले दार्जिलिंग के आईजीपी थे।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में बृहस्पतिवार को दो समूहों के बीच संघर्ष में दो लोगों की मौत हो गई और 11 अन्य घायल हो गए। राज्य के उत्तर 24 परगना जिले में हिंसा के बाद प्रशासन ने संबंधित क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी। इस झड़प के लिए सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और भाजपा ने एक-दूसरे पर आरोप लगाये है क्योंकि इसे भाटपाड़ा में अपनी धाक स्थापित करने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है। यह क्षेत्र बैरकपुर लोकसभा क्षेत्र के तहत आता है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस घटना में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पांच लोगों को इस झड़प के संबंध में गिरफ्तार किया गया है। राज्य सरकार ने बैरकपुर पुलिस आयुक्त तन्मय राय चौधरी को पद से हटा दिया है और उनकी जगह मनोज कुमार वर्मा को नियुक्त किया है। वह पहले दार्जिलिंग के आईजीपी थे।

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल के भाटपारा में दो समूहों के बीच झड़प, एक की मौत तीन घायल

पुलिस महानिदेशक वीरेंद्र ने घटनास्थल का दौरा करने के बाद बताया कि 11 घायल लोगों में छह पुलिसकर्मी हैं जिन्हें हिंसा को काबू में करने के दौरान चोटें आईं। रिपोर्टों के अनुसार नवनिर्मित भाटपाड़ा थाने के पास दो विरोधी समूहों के सदस्यों के बीच तीखी झड़प हुई और इस दौरान कई बम फेंके गए और गोलियां चलाई गईं। नवनिर्मित थाने का बृहस्पतिवार को गृह सचिव ने उद्घाटन किया था। गृह सचिव अलापन बंदोपाध्याय ने कहा, ‘‘भाटपाड़ा में कुछ असामाजिक एवं आपराधिक तत्व सक्रिय हैं। बाहरी तत्व भी उनके साथ शामिल हो गए हैं और इलाके में शांति बाधित कर रहे हैं। आरएएफ कर्मियों को तैनात किया गया है।’’

इसे भी पढ़ें: TMC विधायक बिस्वाजीत दास ने 12 काउंसलरों के साथ थामा BJP का दामन

भाटपाड़ा में 19 मई को हुए विधानसभा चुनाव के बाद झड़प के कई मामले सामने आ चुके हैं। पश्चिम बंगाल सरकार ने भाटपाड़ा समेत बैरकपुर पुलिस आयुक्तालय के तहत आने वाले कुछ इलाकों में हालात को गंभीरता से लिया है। जब उनसे पूछा गया कि क्या पुलिस की गोली से लोगों की मौत हुई है क्योंकि स्थानीय लोग ऐसा आरोप लगा रहे हैं तो उन्होंने कहा, ‘‘मौत की वजह की जांच की जा रही है। पुलिस ने हवा में गोली चलाई थी।’’ एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मरने वालों की पहचान रामबाबू शॉ और धर्मवीर शॉ के रूप में हुई है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़