मध्य प्रदेश में लागू हो समान नागरिक संहिता, राज्यसभा सांसद ने CM शिवराज को लिखा पत्र

मध्य प्रदेश में लागू हो समान नागरिक संहिता, राज्यसभा सांसद ने CM शिवराज को लिखा पत्र

विशेषज्ञों की समिति गठित करने की मेरा आपसे अनुरोध है की आपके नेतृत्व में मध्य प्रदेश सरकार को भी प्रदेश में समान नागरिक संहिता लागू करने हेतु एक विशेषज्ञों की समिति का गठन करें इस समिति में न्यायविध, विधि विशेषज्ञ, पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता, विभिन धार्मिक एवं भाषायी समूह का प्रतिनिधित्व करने वाले विशेषज्ञ इत्यादि को अवश्य शामिल करें।

भोपाल। उत्तराखंड सरकार द्वारा समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए सराहनीय कदम उठाते हुए विशेषज्ञों की एक समिति का गठन किया है। जिसके बाद मध्य प्रदेश में भी समान नागरिक संहिता लागू हो ऐसी मंशा रखते हुए संसद सदस्य अजय प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है।

दरअसल राज्य सभा संसद सदस्य अजय प्रताप सिंह ने पत्र में लिखा कि उत्तराखण्ड सरकार ने हाल ही में उत्तराखण्ड राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए एक विशेषज्ञों की समिति गठन किया है जो उत्तराखण्ड राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने के विब्भिन पहलुओं पर विचार करेगी, उत्तराखण्ड सरकार का यह निर्णय स्वागतयोग्य है।

इसे भी पढ़ें:भोपाल में बीजेपी के एक मंडल अध्यक्ष ने ठेला वाले के साथ की मारपीट, वीडियो हुआ वायरल 

उन्होंने लिखा कि विशेषज्ञों की समिति गठित करने की मेरा आपसे अनुरोध है की आपके नेतृत्व में मध्य प्रदेश सरकार को भी प्रदेश में समान नागरिक संहिता लागू करने हेतु एक विशेषज्ञों की समिति का गठन करें इस समिति में न्यायविध, विधि विशेषज्ञ, पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता, विभिन धार्मिक एवं भाषायी समूह का प्रतिनिधित्व करने वाले विशेषज्ञ इत्यादि को अवश्य शामिल करें। कृपया इस दिशा में आवश्यक कार्यवाही करने की कृपा करें, मैं आभारी रहूँगा।

इसे लेकर कांग्रेस नेता ने सांसद अजय प्रताप सिंह और बीजेपी पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि आप बीजेपी के सांसद हैं, प्रदेश और केंद्र में आपकी की सरकार है, फिर मांग किससे कर रहे हैं? मांग नहीं आप फैसला कराइए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।