दिल्ली में तापमान के अंतर के लिए शहरीकरण मुख्य कारण : सरकार

Jitendra Singh
ANI Photo.
सिंह ने कहा, ‘‘ दिल्ली के मानसून-पूर्व तापमान पैटर्न और इसके संभावित कारणों के संबंध में कई अध्ययन किए गए हैं। शहरीकरण मुख्य कारणों में से एक है जो शहर के भीतर तापमान पैटर्न में परिवर्तन को प्रभावित कर सकता है और गर्म द्वीपों का निर्माण कर सकता है।’’

नयी दिल्ली|  सरकार ने बृहस्पतिवार को कहा कि शहरीकरण दिल्ली के तापमान पैटर्न को प्रभावित करने वाले मुख्य कारणों में से एक है।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि पिछले तीन वर्षों के दौरान मानसून-पूर्व ऋतु में दिल्ली के अधिकतम और न्यूनतम तापमान में वृद्धि हुई है जबकि सापेक्ष आर्द्रता में ऐसी कोई वृद्धि नहीं हुई है। उन्होंने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी।

सिंह ने कहा, ‘‘ दिल्ली के मानसून-पूर्व तापमान पैटर्न और इसके संभावित कारणों के संबंध में कई अध्ययन किए गए हैं। शहरीकरण मुख्य कारणों में से एक है जो शहर के भीतर तापमान पैटर्न में परिवर्तन को प्रभावित कर सकता है और गर्म द्वीपों का निर्माण कर सकता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘दो स्टेशनों के वार्षिक औसत न्यूनतम तापमान में अंतर से यह परिलक्षित होता है, जिनमें से एक (सफदरजंग शहर के भीतर है और दूसरा दिल्ली एनसीआर (पालम) में बाहरी क्षेत्र में है।’’

सिंह ने कहा कि मानसून-पूर्व ऋतु 2022 के दौरान लंबे समय तक चलने वाली लू के कारणों में लंबी अवधि तक वर्षा का नहीं होना, पश्चिमी विक्षोभ का नहीं होना और उत्तरी अरब सागर तथा उससे सटे दक्षिण पाकिस्तान और गुजरात के ऊपर निचले और मध्य क्षोभमंडल स्तरों में गर्म व शुष्क हवा का कम होना शामिल हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़