उत्तराखंड की महिला ने राहुल गांधी के नाम की अपनी सारी संपत्ति, बताई इसके पीछे की खास वजह

pushpa unjiyal
अंकित सिंह । Apr 04, 2022 5:28PM
पुष्पा मुन्जियाल ने कहा कि वह राहुल गांधी के विचारों से अत्यधिक प्रभावित हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गांधी परिवार ने देश की आजादी से लेकर इसे आगे बढ़ाने के लिए सर्वोच्च कुर्बानी दी है। उन्होंने कहा कि चाहे इंदिरा गांधी हो या फिर राजीव गांधी, सभी ने इस देश की एकता और अखंडता के लिए अपने प्राणों की कुर्बानी दी है।

भले ही देश में कांग्रेस की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है। लेकिन कांग्रेस को मानने वाले लोग अब भी पार्टी के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दिखा रहे हैं। इसी कड़ी में उत्तराखंड के देहरादून में रहने वाली 78 साल की एक महिला ने अपनी सारी संपत्ति कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के नाम कर किया है। विभिन्न समाचार पोर्टल पर छपी खबर के मुताबिक बुजुर्ग पुष्पा मुन्जियाल ने अपनी सारी संपत्ति का मालिकाना हक राहुल गांधी ने नाम कर दिया है। उन्होंने अपनी संपत्ति का वसीयतनामा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष प्रीतम सिंह को उनके यमुना कॉलोनी स्थित आवास पर सौंपा।

इस दौरान पुष्पा मुन्जियाल ने कहा कि वह राहुल गांधी के विचारों से अत्यधिक प्रभावित हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गांधी परिवार ने देश की आजादी से लेकर इसे आगे बढ़ाने के लिए सर्वोच्च कुर्बानी दी है। उन्होंने कहा कि चाहे इंदिरा गांधी हो या फिर राजीव गांधी, सभी ने इस देश की एकता और अखंडता के लिए अपने प्राणों की कुर्बानी दी है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने भी देश सेवा के लिए खुद को समर्पित किया है। उन्होंने कोर्ट में अपनी संपत्ति का पूर्ण ब्यौरा देते हुए राहुल गांधी के नाम का वसीयतनामा भी प्रस्तुत किया है। उन्होंने कहा कि मेरे देहांत के उपरांत मेरी पूरी संपत्ति का मालिकाना हक उन्हें सौंपा जाए। 

इसे भी पढ़ें: राजीव की कमाई, सोनिया ने गंवाई, राज्यसभा में अपने सबसे खराब दौर में कांग्रेस, 17 राज्यों से एक भी सांसद नहीं

खबर में तो यह भी दावा किया जा रहा है कि महिला ने 50 लाख की संपत्ति के साथ साथ 10 तोला सोना भी राहुल गांधी के नाम किया है। पुष्पा मुन्जियाल ने राहुल गांधी की और उनके विचारों को देश के लिए जरूरी बताया है। आपको बता दें कि हाल में ही संपन्न हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन बेहद खराब रहा। कांग्रेस में सत्ता में रहने के बावजूद भी उसे करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। जबकि उत्तराखंड, गोवा, मणिपुर और उत्तराखंड में मेहनत के बावजूद भी उसके लिए अच्छे परिणाम नहीं रहे।

अन्य न्यूज़