मेनका गांधी की कथित अपमानजनक टिप्पणी के खिलाफ पशु चिकित्सकों ने किया प्रदर्शन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 24, 2021   08:37
मेनका गांधी की कथित अपमानजनक टिप्पणी के खिलाफ पशु चिकित्सकों ने किया प्रदर्शन

इंडियन वेटनरी एसोसिएशन (आईवीए) ने कहा है कि भाजपा सांसद और पशु अधिकार कार्यकर्ता मेनका गांधी द्वारा एक पशु चिकित्सक को डांटने के दौरान कथित तौर पर असंसदीय का इस्तेमाल करने के विरोध में देश भर के पशु चिकित्सकों ने बुधवार को काला दिवस मनाया और काली पट्टी बांधी।

भोपाल। इंडियन वेटनरी एसोसिएशन (आईवीए) ने कहा है कि भाजपा सांसद और पशु अधिकार कार्यकर्ता मेनका गांधी द्वारा एक पशु चिकित्सक को डांटने के दौरान कथित तौर पर असंसदीय का इस्तेमाल करने के विरोध में देश भर के पशु चिकित्सकों ने बुधवार को काला दिवस मनाया और काली पट्टी बांधी। आईवीए द्वारा राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया गया था। आईवीए अध्यक्ष और भारतीय पशु चिकित्सा परिषद के सदस्य उमेश शर्मा ने बुधवार को यहां एक बयान में कहा कि देश भर के पशु चिकित्सकों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री द्वारा कथित तौर पर उनके खिलाफ की जाने वाली की कड़ी निंदा की और विरोध स्वरूप काली पट्टी बांध कर काम किया।

इसे भी पढ़ें: ED ने मनीष मल्होत्रा, रितु कुमार समेत 3 फैशन डिजाइनरों को किया तलब, जानें क्या है पूरा मामला?

शर्मा ने कहा कि मेनका गांधी ने मंगलवार को फोन पर एक पशु चिकित्सक के साथ कथित तौर पर दुर्व्यवहार किया और बातचीत के दौरान असंसदीय का इस्तेमाल किया। मेनका गांधी की कथित बातचीत का एक ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। आईवीए ने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को भी एक पत्र लिखा है और उनसे मेनका गांधी की टिप्पणी पर संज्ञान लेने का आग्रह किया है।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस स्वरूप से संक्रमित हुए उज्जैन में दो लोग, एक की मौत

उन्होंने कहा कि मेनका गांधी के इस कृत्य से भाजपा की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचता है। एसोसिएशन ने मांग की कि भाजपा सांसद अपनी टिप्पणी वापस लें और सार्वजनिक तौर पर काफी मांगे। शर्मा ने कहा कि कोविड-19 के संकट के दौरान देश भर में 150 से अधिक पशु चिकित्सक और एक हजार से अधिक पैरा मेडिक्स लोगों ने राष्ट्र की सेवा करते हुए अपनी जान गंवाई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।