Andhra Pradesh: नए जिले के नाम को लेकर भड़की हिंसा, लोगों ने फूंका मंत्री का घर, कई जख्मी

andhra protest
ANI
अंकित सिंह । May 24, 2022 9:00PM
प्रदर्शनकारियों ने पुलिस वाहन और एक शिक्षण संस्थान के बस को भी आग के हवाले कर दिया। लोगों ने पुलिस पर भी जमकर पथराव किया है। इस पथराव में कम से कम 20 पुलिसकर्मियों के घायल होने की भी खबर है। बताया जा रहा है कि जिले का नाम नहीं बदलने की मांग को लेकर यह प्रदर्शन शुरू हुआ था।

आंध्र प्रदेश के अमलापुरम शहर में पुलिस द्वारा लाठीचार्ज करने के बाद हिंसा भड़क उठी है। दरअसल, नवगठित जिले कोनासीमा का नाम बदलकर बीआर आंबेडकर कोनासीमा करने को लेकर लोगों में नराजगी है। नाराज लोगों ने जिला मुख्यालय के सामने धरना प्रदर्शन किया। लाठीचार्ज के बाद हिंसा इतनी बढ़ गई कि राज्य के परिवहन मंत्री पिनिपे विश्वरूपु के घर में भी आग लगा दी गई। फिलहाल पुलिस ने मंत्री और उनके परिवार को वहां से सुरक्षित निकाल लिया है। खबर तो यह भी है कि विधायक पोन्नाडा सतीश के घर में भी प्रदर्शनकारियों ने आग लगा दी है। 

इसे भी पढ़ें: युद्ध विराम के प्रयास और चीन की दादागिरी पर अंकुश लगाने की पहल करे क्वॉड

प्रदर्शनकारियों ने पुलिस वाहन और एक शिक्षण संस्थान के बस को भी आग के हवाले कर दिया। लोगों ने पुलिस पर भी जमकर पथराव किया है। इस पथराव में कम से कम 20 पुलिसकर्मियों के घायल होने की भी खबर है। बताया जा रहा है कि जिले का नाम नहीं बदलने की मांग को लेकर यह प्रदर्शन शुरू हुआ था। लेकिन जैसे ही पुलिस ने लाठीचार्ज की, लोगों में गुस्सा बढ़ गया। सैकड़ों युवा लगातार सड़क पर नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस पृष्ठभूमि में कोनासीमा साधना समिति ने नाम बदलने के प्रस्ताव पर आपत्ति जताई और जिले का नाम यथावत कोनासीमा रहने देने की मांग की। समिति ने मंगलवार को जिलाधिकारी हिमांशु शुक्ला को जिले का नाम बदलने के खिलाफ ज्ञापन देने का प्रयास करते हुए प्रदर्शन का आयोजन किया था।

इसे भी पढ़ें: असम: थाने पर हमला करने वालों में शामिल ग्रामीणों के ढहाए गए मकान, जेसीबी से हुई कार्रवाई

आपको बता दें कि 4 अप्रैल को पूर्वी गोदावरी जिले से अलग कर कोनासीमा जिले का गठन किया गया था। इसके बाद अब जिले का नाम बदलकर बीआर अंबेडकर कोनासीमा जिला करने की प्रारंभिक अधिसूचना जारी कर दी गई है। लोग कोनासीमा नाम बरकरार रखने की लगातार मांग कर रहे हैं। वही हिंसा को लेकर राज्य के गृह मंत्री ने कहा कि कुछ राजनीतिक दल और असामाजिक तत्वों ने आगजनी की है। गृहमंत्री तानेती वनिता ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि घटना में करीब 20 पुलिस कर्मियों को चोट आई हैं। हम मामले की जांच करेंगे और दोषियों को न्याय के कठघरे में लाएंगे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़