पटियाला की हिंसक घटना को राघव चड्ढा ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण, बोले- झड़प 2 समूहों के बीच नहीं बल्कि 2 दलों के बीच हुई

पटियाला की हिंसक घटना को राघव चड्ढा ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण, बोले- झड़प 2 समूहों के बीच नहीं बल्कि 2 दलों के बीच हुई
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा ने बताया कि मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि पटियाला में यह दुर्भाग्यपूर्ण हिंसक झड़प 2 समूहों के बीच नहीं बल्कि 2 राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं के बीच थी। एक तरफ शिवसेना और कांग्रेस के लोग थे। जबकि दूसरी तरफ शिरोमणि अकाली दल के लोग थे।

चंडीगढ़। पंजाब के पटियाला में शुक्रवार को दो समूहों के बीच झड़प हो गई। इस दौरान पत्थरबाजी भी हुई। जिसके बाद स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए पुलिस को हवा में गोलियां चलानी पड़ीं। कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए मौके पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। इसी बीच राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। 

इसे भी पढ़ें: Breaking: पटियाला में शिवसेना के खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च के दौरान हिंसक झड़प, लहराई गई तलवारें, पत्थरबाजी और फायरिंग 

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा ने बताया कि मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि पटियाला में यह दुर्भाग्यपूर्ण हिंसक झड़प 2 समूहों के बीच नहीं बल्कि 2 राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं के बीच थी। एक तरफ शिवसेना और कांग्रेस के लोग थे। जबकि दूसरी तरफ शिरोमणि अकाली दल के लोग थे।

उन्होंने बताया कि दोनों पक्षों के असामाजिक तत्व इस झड़प में शामिल हो गए, हिंसा की और पंजाब के माहौल को खराब करने का प्रयास किया। पंजाब की शांति भंग करने की कोशिश करने वाले किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस ने तुरंत कानून-व्यवस्था बहाल कर दी है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। पंजाब सरकार और पुलिस इस हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। इन राजनीतिक दलों के मास्टरमाइंड को नहीं बख्शा जाएगा।

नियंत्रण में है पटियाला की स्थिति

पटियाला के पुलिस महानिरीक्षक राकेश अग्रवाल ने पटियाला में कहा कि स्थिति अब नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि हमने बाहर से पुलिस बल बुलाया है। उपायुक्त द्वारा शांति समिति की बैठक बुलाई गई है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में शांति बहाल करना उनकी प्राथमिकता है। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब में जारी बिजली कटौती पर ऊर्जा मंत्री ने कहा- मांग में 40 प्रतिशत की बढ़ोतरी 

मुख्यमंत्री ने की डीजीपी से बात

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि पटियाला में झड़प की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मैंने डीजीपी से बात की है। क्षेत्र में शांति बहाल कर दी गई है। हम स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए हैं और किसी को भी राज्य में अशांति का माहौल पैदा नहीं करने देंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।