मनीष तिवारी ने इमरान को लेकर सिद्धू पर कसा तंज, कहा- पुंछ के जवानों की शहादत कैसे भूल सकते हैं ?

मनीष तिवारी ने इमरान को लेकर सिद्धू पर कसा तंज, कहा- पुंछ के जवानों की शहादत कैसे भूल सकते हैं ?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने कहा कि पुंछ के जवानों की शहादत कैसे भूल सकते हैं। कांग्रेस नेता ने इमरान खान को टैग करते हुए यह ट्वीट किया। दरअसल, सिद्धू का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। जिसमें एक पाकिस्तानी अधिकारी इमरान खान की ओर से उनका स्वागत करते दिखे।

नयी दिल्ली। पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को कथित तौर पर अपना बड़ा भाई बताया। जिसके बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी का बयान सामने आया। उन्होंने सिद्धू का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि इमरान खान किसी का भी बड़ा भाई हो सकता है लेकिन भारत के लिए वो पाकिस्तान के आईएसआई-मिलिट्री गठबंधन का हिस्सा है जो दबे पांव पंजाब में हथियारों और नशीले पदार्थों को ड्रोन के जरिए भेजता है और जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार रोजाना आतंकवादियों को। 

इसे भी पढ़ें: करतारपुर पहुंचे सिद्धू ने इमरान खान को बताया बड़ा भाई, भाजपा ने साधा कांग्रेस पर निशाना 

मनीष तिवारी ने कहा कि क्या हम पुंछ के जवानों की शहादत भूल सकते हैं। कांग्रेस नेता ने इमरान खान को टैग करते हुए यह ट्वीट किया। दरअसल, सिद्धू का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। जिसमें एक पाकिस्तानी अधिकारी इमरान खान की ओर से उनका स्वागत करते दिखे। इस पर सिद्धू ने कहा कि इमरान खान उनके बड़े भाई जैसे हैं और वह उन्हें बहुत प्यार करते हैं। 

इसे भी पढ़ें: ‘‘काले’’ कानूनों को निरस्त करना सही दिशा में उठाया गया कदम, एमएसपी बड़ा मुद्दा : सिद्धू  

भाजपा ने भी साधा निशाना

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि आज सिद्धू ने इमरान खान को बड़ा भाई कहकर संबोधित किया और कहा कि मैं उन्हें बहुत प्यार करता हूं। ये करोड़ों हिंदुस्तानियों के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी का ये एक प्रकार का तरीका है। सलमान खर्शीद, मणिशंकर अय्यर, राशिद अल्वी और इन सबके ऊपर राहुल गांधी, ये सभी हिंदू और हिंदुत्व को गाली देते हैं। वहीं सिद्धू पाकिस्तान के हित में बयान देते हैं। ये कोई इत्तेफाकन नहीं है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।