पुलवामा हमले के बाद हमने रणनीति बदल ली: सीआरपीएफ डीजी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2020   20:06
पुलवामा हमले के बाद हमने रणनीति बदल ली: सीआरपीएफ डीजी

सीआरपीएफ प्रमुख ने कहा कि करीब एक साल पहले पुलवामा आतंकी हमले के बाद बल ने अपनी रणनीति में ‘बदलाव’ करते हुए सुरक्षा अभ्यासों को बेहतर किया है। सीआरपीएफ के महानिदेशक एपी माहेश्वरी ने कहा कि हम लड़ाकू बल हैं। हमने अपने सुरक्षा अभ्यासों को बेहतर किया है, प्रशिक्षण के लिए अपनी क्षमता को बेहतर बनाया है।

गुड़गांव। सीआरपीएफ प्रमुख ने मंगलवार को कहा कि करीब एक साल पहले पुलवामा आतंकी हमले के बाद बल ने अपनी रणनीति में ‘‘बदलाव’’ करते हुए सुरक्षा अभ्यासों को बेहतर किया है। सीआरपीएफ के महानिदेशक (डीजी) एपी माहेश्वरी ने कहा कि आतंकवाद रोधी अभियानों की बहुआयामी प्रकृति के कारण कोई भी गारंटी नहीं दे सकता कि भविष्य में ऐसी घटनाएं नहीं होंगी।

इसे भी पढ़ें: CRPF महानिदेशक ने जवानों से कहा, अपनी समस्याओं के बारे में खुलकर मुझे बताएं

हालांकि, उनका बल आश्वस्त कर सकता है और गारंटी दे सकता है कि आतंकी तत्वों के लिए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के साथ भिड़ना आसान नहीं होगा, जिसने कश्मीर घाटी में आतंक रोधी अभियानों में 70,000 से ज्यादा जवानों को तैनात कर रखा है। 

माहेश्वरी ने बल के कैंप में यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम लड़ाकू बल हैं। हमने अपने सुरक्षा अभ्यासों को बेहतर किया है, प्रशिक्षण के लिए अपनी क्षमता को बेहतर बनाया है। साजो-सामान, रणनीति, आवाजाही और स्थानांतरण के लिहाज से बेहतर हुए हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम बेहतर हुए हैं। हमारा मानना है कि हम नुकसान से सबक ले सकते हैं और ये हमें सफलता की ओर ले जाने वाले होने चाहिए। जो भी सफलताएं वहां मिली हैं वो नाकामी के बाद आयी है।’’

इसे भी पढ़ें: आईपीएस अधिकारी माहेश्वरी ने सीआरपीएफ के महानिदेशक का पदभार संभाला

डीजी ने कहा कि अभियान में हिस्सा लेने वाले जानते हैं कि कोई भी (पुलवामा हमले के खिलाफ) गारंटी नहीं दे सकता लेकिन हम इसकी गारंटी देते हैं कि अगर वे (आतंकवादी) हमें निशाना बनाएंगे तो वे जिंदा नहीं लौटेंगे या हम उनका पता लगाकर उन्हें खत्म कर देंगे।

इसे भी देखें : Balakot में IAF की Air Strike पर पाकिस्तान का हर झूठ हो गया उजागर





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।