एक भ्रष्टाचारी सरकार को हमने धूल चटाई हैः ज्योतिरादित्य सिंधिया

Jyotiraditya Scindia
दिनेश शुक्ल । Oct 31, 2020 8:48PM
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि ये चुनाव जात-पात, धर्म-अधर्म का नहीं, बल्कि यह तो प्रदेश के विकास का चुनाव है। जनता के सम्मान और स्वाभिमान का चुनाव है। इस चुनाव में कमलनाथ-कांग्रेस को बताना है कि उन्होंने क्या-क्या गलतियां की थीं।

भोपाल। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि हमने एक भ्रष्टाचारी सरकार को धूल चटाकर सत्ता से ही हटा दिया। कमलनाथ ने सिंधिया परिवार को चुनौती दी थी। मुझसे कहा था कि आ जाओ सड़क पर, तो मैंने कमलनाथ सरकार को ही सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने मेरी मालिक मेरी जनता की तरफ आंख उठाई थी, अब उसका नतीजा भी देख लिया। उन्होंने कहा कि मेरा जनता से राजनीतिक जुड़ाव नहीं है, मेरा तो इनसे दिल का रिश्ता है और मैं सौभाग्यशाली हूं कि मुझे 18 साल से आपकी सेवा करने का सौभाग्य प्राप्त हो रहा है। वे शनिवार को मुंगावली विधानसभा क्षेत्र में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: बस भ्रष्टाचार और कमलनाथ चलते रहे, बाकी सब बंद हो गया थाः शिवराज सिंह चौहान

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि ये चुनाव जात-पात, धर्म-अधर्म का नहीं, बल्कि यह तो प्रदेश के विकास का चुनाव है। जनता के सम्मान और स्वाभिमान का चुनाव है। इस चुनाव में कमलनाथ-कांग्रेस को बताना है कि उन्होंने क्या-क्या गलतियां की थीं। कमलनाथ ने प्रदेश के गरीब, किसानों को 2 लाख रूपए कर्जमाफी का झांसा दिया था और मुझसे भी फर्जी प्रमाण-पत्र बंटवा दिए। कर्जमाफी का वचन पूरा नहीं किया। युवाओं को 4 हजार रूपए प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने का भी वादा किया था, लेकिन वह भी नहीं दिया। जब कमलनाथ ने जनता को दिए वचन पूरे नहीं किए तो मैंने कहा कि वचन पत्र में दिए गए वचनों को पूरा करें, नहीं तो मुझे सड़कों पर आना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि दंभी और गुरूर में चूर कमलनाथ ने कहा कि आ जाओ सड़क पर तो आ गया। उन्होंने कहा कि अब प्रदेश के विकास के लिए शिव-ज्योति एक्सप्रेस चल पड़ी है और यह एक्सप्रेस प्रदेश के विकास में कोई कमी नहीं आने देगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़