अवैध निर्माण पर चला योगी प्रशासन का बुलडोजर, हरदोई में 10 साल पुरानी मजार जमींदोज

अवैध निर्माण पर चला योगी प्रशासन का बुलडोजर, हरदोई में 10 साल पुरानी मजार जमींदोज

अधिकारियों ने बताया कि इस अवैध निर्माण को हटाने के लिए पहले नोटिस जारी किया जा चुका था। अधिकारी ने यह भी कहा कि अतिक्रमण करने वाले ने खुद ही अपने लोगों के साथ मिलकर इसे हटवाया है।

उत्तर प्रदेश में अवैध निर्माण को लेकर योगी सरकार सख्त कदम उठा रही है। हाल में ही हरदोई जिले से एक खबर आई है जहां काशीराम कॉलोनी में सरकारी जमीन पर बने अवैध रूप से एक धार्मिक स्थल को जमींदोज कर दिया गया है। अवैध निर्माण को हटाने गई प्रशासनिक अधिकारियों के साथ भारी पुलिस बल की भी तैनाती की गई थी। अधिकारियों ने बताया कि इस अवैध निर्माण को हटाने के लिए पहले नोटिस जारी किया जा चुका था। अधिकारी ने यह भी कहा कि अतिक्रमण करने वाले ने खुद ही अपने लोगों के साथ मिलकर इसे हटवाया है।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने की अयोध्या की विकास योजना की समीक्षा, योगी आदित्यनाथ भी रहे मौजूद

जानकारी के मुताबिक काशीराम कॉलोनी में सरकारी जमीन पर अवैध रूप से अतिक्रमण कर इबादतगाह बनाए जाने का मामला काफी दिन पहले सामने आया था। इसके बाद से प्रशासन ने सख्ती दिखानी शुरू किए थी। सरकारी जमीन को अतिक्रमण करने वाले सगीर अहमद को नोटिस भी जारी किया गया था। सगीर ने अवैध निर्माण को हटाने की बाद जरूर कही थी लेकिन अब तक वह यह नहीं कर पाया था। ऐसे में प्रशासन और अधिकारियों की मौजूदगी में टीन-शेड से निर्मित अवैध इबादतगाह को हटवा दिया गया।

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार के प्लान के अनुसार वाराणसी मंडल में लगेंगे 1.5 करोड़ पौधे, हर पौधे के होंगे अलग लाभ

बताया जा रहा है कि नोटिस वाले जमीन पर बनी इबादतगाह लगभग 10 साल पुरानी है। यहां लोग नमाज पढ़ने आया करते थे। पर मजार सरकारी जमीन पर थी ऐसे में यह कदम उठाया गया। जब मजार पर बुलडोजर चलाया जा रहा था तब भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी थी। इससे पहले हरदोई जिले में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने भी मजार के निर्माण पर कार्रवाई करने की मांग की थी। अब जब मजार के ऊपर यह कार्रवाई हुई है तो इसे विधानसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। इससे पहले बाराबंकी में भी फतेहपुर कस्बे के मुख्य मार्ग और मुंशीगंज बाजार में सड़क के बीचो बीच निर्मित मजार को दूसरी जगह शिफ्ट करवाया गया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।