राममंदिर निर्माण की राह में तो बाधाएँ हैं पर अयोध्या में सड़कें बनवाने से किसने रोका है ?

By नीरज कुमार दुबे | Publish Date: Jan 2 2019 3:30PM
राममंदिर निर्माण की राह में तो बाधाएँ हैं पर अयोध्या में सड़कें बनवाने से किसने रोका है ?
Image Source: Google

अयोध्या में क्या सिर्फ राम मंदिर ही एकमात्र बड़ा मुद्दा है या फिर कुछ और भी ऐसी चीजें हैं जिनकी यहाँ की स्थानीय जनता को जरूरत है जब इसकी पड़ताल की गयी तो पता चला कि भगवान राम की यह नगरी वर्षों से सरकारी उपेक्षा की शिकार है।

श्रीरामजन्मभूमि पर राम मंदिर निर्माण को लेकर चल रही बहस के बीच अयोध्या जाकर जमीनी स्थिति का हाल जानना चाहा और लोगों की राय जानने का प्रयास किया तो कई ऐसी चीजें सामने आईं जिनका मुख्यधारा के मीडिया में जिक्र ही नहीं होता। अयोध्या में राम मंदिर मुद्दा क्या 2019 के लोकसभा चुनावों के परिणामों पर सीधा असर डालेगा, जब यह बात आप लोगों से पूछते हैं तो स्पष्ट जवाब आता है- हाँ। लेकिन अयोध्या में क्या सिर्फ राम मंदिर ही एकमात्र बड़ा मुद्दा है या फिर कुछ और भी ऐसी चीजें हैं जिनकी यहाँ की स्थानीय जनता को जरूरत है जब इसकी पड़ताल की गयी तो पता चला कि भगवान राम की यह नगरी वर्षों से सरकारी उपेक्षा की शिकार है।
भाजपा को जिताए
 



सड़कें तो बनवा दीजिये
 
यह सही है कि राम मंदिर निर्माण की राह में अभी कानूनी बाधाएं हैं लेकिन सरकारों से यह तो पूछा ही जा सकता है कि अयोध्या में सड़कें बनवाने से उन्हें कौन-सी कानूनी अड़चन रोक रही है? आप अयोध्या के भीतरी इलाकों में जरा जाकर देखिये सड़कों का हाल बेहद बुरा है। हाईवे आदि छोड़ दें तो शहर की कई सड़कें तुरन्त मरम्मत की माँग करती दिखाई पड़ेंगी।



गायों की स्थिति
 
हिन्दुओं को अपने आराध्य भगवान श्रीराम को तिरपाल में देखकर जितना दुःख होता है उतना ही दुःख सड़कों पर गायों की हालत देखकर होता है। भाजपा और संघ परिवार के लोग गौ माता को लेकर काफी राजनीतिक बातें करते हैं लेकिन राम की नगरी में जब गौ माता पुराने कपड़े या गत्ते के टुकड़े खाते हुए सड़कों पर दिखती हैं तो सवाल उठाना तो बनता ही है।


 
 
दीये जलाएं पर सफाई भी करवाएं
 
पवित्र नदी सरयू के तट पर सवा लाख दीये जलाकर रोशनी करना या सरयू माता की आरती करना अच्छा है लेकिन जरा सरयू के तटों पर साफ-सफाई पर भी ध्यान देना चाहिए। तटों पर सीढ़ियों से उतरते ही जिस प्रकार गंदगी से सामना होता है उससे सारी श्रद्धा और आस्था को ठेस पहुँचती है। 
 
 
सुविधाओं का भारी अभाव
 
अयोध्या नगरी पूरे विश्व की दृष्टि में आध्यात्मिक पयर्टन का केंद्र भी है लेकिन इस नजर से देखा जाये तो यहाँ सुविधाओं का भारी अभाव है। इसके लिए सिर्फ वर्तमान सरकार को ही दोषी ठहराना उचित नहीं होगा। शायद राजनीतिक दलों को लगता रहा होगा कि अयोध्या का विकास करवाने से हम पर कहीं साम्प्रदायिक होने का ठप्पा नहीं लग जाये। अयोध्या को जैसे हर आधुनिक चीज से दूर रखने का षड्यंत्र किया गया है। ना यहाँ के बाजारों में बाहर से आने वाले लोगों के हिसाब से चीजें उपलब्ध हैं ना ही बड़ी संख्या में अच्छे होटल उपलब्ध हैं। परिवहन के साधनों की भी जैसी व्यवस्था एक प्रख्यात आध्यात्मिक नगरी में होनी चाहिए वैसी नहीं है।
 


भगवान के अन्य मंदिरों की भी सुध लीजिये
 
श्रीरामजन्मभूमि पर राम मंदिर बनेगा या कुछ और इस बात का फैसला तो बाद में होगा लेकिन श्रीराम से जुड़े अन्य मंदिरों- मसलन श्रीराम की राजगद्दी जाकर देखिये मंदिर का क्या हाल है, जरा सीता रसोई की हालत देखिये क्या है ? यह सब हिन्दुओं की आस्था के केंद्र हैं जब एएसआई जैसी सरकारी संस्थाएं अन्य शहरों में किलों और गुंबदों की देखरेख करती हैं, ताजमहल का पत्थर काला पड़ जाये तो चिंता हो जाती है तो भगवान राम से जुड़े मंदिरों की देखरेख क्यों नहीं की जा सकती ? क्या यह सब भारत की धरोहरें नहीं हैं? यह सही है कि कुछ समितियां इन मंदिरों का रखरखाव कर रही हैं लेकिन इनका सहयोग तो सरकारी संस्थाएं कर ही सकती हैं। भगवान श्रीराम को तिरपाल में रख कर देश के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से भी ज्यादा सुरक्षा दी गयी है लेकिन मंदिर में प्रवेश रास्ते की ओर आने वाली सड़क ही खराब है। आसपास के इलाके को सुंदर बनाया जाये तो बहुत अच्छा रहेगा।
 
-नीरज कुमार दुबे

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Story

Related Video