बैडमिंटन खिलाड़ी अश्विनी का ध्यान फिटनेस और ओलंपिक कोटा हासिल करने पर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2019   17:49
बैडमिंटन खिलाड़ी अश्विनी का ध्यान फिटनेस और ओलंपिक कोटा हासिल करने पर

लंदन ओलंपिक 2012 और रियो ओलंपिक 2016 में ज्वाला गुट्टा के साथ जोड़ी बनाकर भाग लेने वाली अश्विनी ने कहा कि सिक्की रेड्डी के साथ मेरी जोड़ी अच्छी है। हमने शीर्ष 10 खिलाड़ियों के साथ करीबी मुकाबले खेले है।

मुंबई। तोक्यो ओलंपिक 2020 का टिकट हासिल करने की कोशिश में लगी युगल विशेषज्ञ भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी अश्विनी पोनप्पा ने शनिवार को कहा कि वह आगामी सत्र के लिए फिटनेस और ताकत हासिल करने पर काम कर रही है। बैडमिंटन के लिए ओलंपिक क्वालीफिकेशन का समय 29 अप्रैल 2019 से शुरू हुआ है जो 26 अप्रैल 2020 तक चलेगा जबकि कोटा तय करने के लिए 30 अप्रैल को रैंकिंग सूची का प्रकाशन होगा।

इसे भी पढ़ें: किदांबी श्रीकांत और समीर वर्मा कोरिया ओपन के दूसरे दौर में पहुंचे, सौरभ वर्मा बाहर

महिला युगल में एन सिक्की रेड्डी के साथ जोड़ी बनाकर खेलने वाली अश्विनी ने कहा कि मेरा ध्यान शरीर को मजबूत बनाने और फिट रहने के साथ ऐसे बुनियादी अभ्यासों पर अधिक काम करने का जिससे मजबूती मिले।’’विश्व रैंकिंग में 24वें स्थान पर काबिज इस भारतीय जोड़ी के लिए यह साल अच्छा नहीं रहा है। उन्होंने 20 टूर्नामेंटों में भाग लिया है जिसमें 13 में वे पहले और तीन में दूसरे दौर में बाहर हो गये। 

इसे भी पढ़ें: इंडिया इंटरनेशनल चैलेंज बैडमिंटन में भाग लेंगे 250 खिलाड़ी

लंदन ओलंपिक 2012 और रियो ओलंपिक 2016 में ज्वाला गुट्टा के साथ जोड़ी बनाकर भाग लेने वाली अश्विनी ने कहा कि सिक्की रेड्डी के साथ मेरी जोड़ी अच्छी है। हमने शीर्ष 10 खिलाड़ियों के साथ करीबी मुकाबले खेले है। दुर्भाग्य से हमें पहले दौर में मुश्किल मैच मिले जिसमें हम ज्यादातर मुकाबले हार गये। राष्ट्रमंडल खेलों 2010 में स्वर्ण पदक जीतने वाली इस खिलाड़ी ने कहा कि युगल में दोनों खिलाड़ियों को सामंजस्य बैठाने में थोड़ा समय लगता है। उन्होंने कहा कि नतीजा हासिल करने में समय लगता है। खासकर युगल में यह थोड़े समय में नहीं होता है। अब खेल में भी काफी बदलाव आ गया है। पहले ज्यादातर जोड़िया डिफेंस या आक्रमण में से किसी एक में अच्छी होती थी लेकिन अब वे दोनों विभाग तें अच्छे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।