विश्व कप में गेंदबाजी का कमाल दिखाना चाहते हैं मैक्सवेल

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 22 2019 2:59PM
विश्व कप में गेंदबाजी का कमाल दिखाना चाहते हैं मैक्सवेल
Image Source: Google

एरोन फिंच के कप्तान बनने के बाद से मैक्सवेल ने हर मैच में पांच ओवर औसतन डाले हैं। वहीं स्टीव स्मिथ की कप्तानी में उन्होंने औसतन 2.4 ओवर प्रति मैच डाले थे।

साउथम्पटन। अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिये मशहूर ग्लेन मैक्सवेल विश्व कप में अपनी अनियमित आफ स्पिन गेंदबाजी से आस्ट्रेलिया की जीत के सूत्रधार बनना चाहते हैं। एरोन फिंच के कप्तान बनने के बाद से मैक्सवेल ने हर मैच में पांच ओवर औसतन डाले हैं। वहीं स्टीव स्मिथ की कप्तानी में उन्होंने औसतन 2.4 ओवर प्रति मैच डाले थे। उन्होंने भारत और यूएई दौरे पर तीन बार दस ओवर का कोटा भी पूरा किया। मैक्सवेल ने कहा कि मैने दुबई और भारत में कुछ ओवर गेंदबाजी की। कुछ और ओवर डालकर लय बनाये रखना चाहता था। मैने लंकाशर में काउंटी खेलते समय उसे कायम रखा। 

इसे भी पढ़ें: जाम्पा-लियोन का डबल स्पिन अटैक विश्व कप में होगा आस्ट्रेलिया का अहम हथियार

उन्होंने कहा कि एक अनियमित गेंदबाज के पास लय होना जरूरी है। मैं रन रोकने के लिये गेंदबाजी करता हूं। ऐसे में विरोधी टीम पर दबाव आ जाता है। मैं दूसरे गेंदबाजों के सहायक की भूमिका निभाना चाहता हूं। मैक्सवेल ने ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम में अपनी जगह फिर पाने के लिये आईपीएल छोड़कर काउंटी क्रिकेट खेला। उन्होंने कहा कि आईपीएल नहीं खेलना बड़ा फैसला था। लंबे समय में मैं अपनी पहचान दो बार विश्व कप जीतने वाले खिलाड़ी के रूप में बनाना चाहता हूं, अमीर खिलाड़ी के रूप में नहीं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video