यदि आप ट्रेन से बारात ले जाना चाहते हैं तो ऐसे बुक कीजिए ट्रेन

coach wedding
कमलेश पांडेय । Dec 23, 2021 5:20PM
ट्रेन बुकिंग में आम लोगों को अधिक असुविधा नहीं हो, इसके लिए भारतीय रेलवे हेतु ट्रेन बुकिंग करने वाली संस्था आईआरसीटीसी ने ट्रेन बुक करने का तौर-तरीका बेहद आसान कर दिया है। इसके लिए भारतीय रेलवे की नियमावली में भी कुछ अहम बदलाव भी किए गए हैं।

भारत जैसे विकासशील देश में सड़क मार्ग की अपेक्षा रेल मार्ग से यात्रा करना ज्यादा आरामदायक और सुरक्षित होता है, बशर्ते कि लम्बी दूरी की यात्रा करनी हो। यहां पर लम्बी दूरी का अभिप्राय 150-200 किलोमीटर से अधिक लम्बी दूरी से है, जहां पर सड़क मार्ग से आवागमन थोड़ा कठिन हो जाता है। हालांकि, सरकार एक्सप्रेस-वे तो बना रही है, लेकिन इसका जाल पूरे देश में और राज्य विशेष के हर हिस्से में अभी पूरी तरह से नहीं फैला है। यही वजह है कि कार या बस की अपेक्षा ट्रेन को आवागमन का सस्ता, सुरक्षित और सर्वसुविधायुक्त साधन माना जाता है।

भारत रीति-नीति प्रधान देश है। यहां शादी-विवाह के मौसम में यातायात के प्रचलित साधनों से यात्रा करना थोड़ा कठिन हो जाता है, क्योंकि रेल और सड़क मार्ग पर दबाव बढ़ने से बस अड्डों व रेलवे स्टेशनों पर भीड़ बढ़ जाती है। इससे बचने के लिए कुछ लोग टूर ऑपरेटर के माध्यम से निजी कार या बस बुकिंग करके यात्रा तो करते हैं, लेकिन इनके माध्यम से वो खास सुविधाएं नहीं मिल पातीं हैं जो रेलवे में सहज ही उपलब्ध होती हैं। जैसे एक साथ ही एक जगह पर अधिक लोगों के साथ यात्रा करना, खान-पान सुविधा, टॉयलेट सुविधा, सड़क जाम से मुक्ति आदि। भारतीय रेलवे अपनी इन विशेषताओं को समझते हुए पहले तीर्थयात्रियों या पर्यटकों के लिए ट्रेन या कोच बुकिंग की सुविधा प्रदान की। और अब रेलवे के निजीकरण की प्रक्रिया को और अधिक आकर्षक बनाने के लिए उसने शादी-विवाह के निमित्त बारातियों के लिए पूरी ट्रेन या कोच 1 माह पहले से लेकर 6 माह पहले तक बुक करने की सुविधा प्रदान की है।

इसे भी पढ़ें: विवाह की उम्र में बदलाव से होगी सामाजिक सुधार की अभूतपूर्व पहल

ट्रेन बुकिंग में आम लोगों को अधिक असुविधा नहीं हो, इसके लिए भारतीय रेलवे हेतु ट्रेन बुकिंग करने वाली संस्था आईआरसीटीसी ने ट्रेन बुक करने का तौर-तरीका बेहद आसान कर दिया है। इसके लिए भारतीय रेलवे की नियमावली में भी कुछ अहम बदलाव भी किए गए हैं।

यातायात मामलों के जानकार बताते हैं कि अक्सर लोग बारात जाने के लिए सड़क मार्ग का ही उपयोग करते आये हैं। जबकि सड़क मार्ग से ज्यादा सस्ता, सुरक्षित और आवश्यक सुविधाओं से युक्त आवागमन साधन रेल मार्ग को माना जाता है। इसलिए अब आप अपनी बारात कार या बस से नहीं, बल्कि ट्रेन से ले जाइए। यदि आपके पड़ोसी भी अगली बार किसी को बारात ले जाएं तो उन्हें एक बार ट्रेन से जाने के बारे में जरूर सलाह दीजिये। इससे आमलोगों को जहां सुविधा होगी, वहीं रेलवे के राजस्व में भी भारी इजाफा होगा।

तो आइए यहां पर हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताएंगे।  

# बुकिंग कराने के लिए आईआरसीटीसी से संपर्क कीजिए 

आईआरसीटीसी से प्राप्त एक आंकड़े के अनुसार, भारत में बारात ले जाने के लिए ट्रेनों की बुकिंग में काफी तेजी आई है। प्रतिवर्ष विभिन्न गाड़ियों में 100 से अधिक कोच बुक कराए जाते हैं। हालांकि, इसके लिए बुकिंग कराने वाले को थोड़ा अधिक किराया देना होता हैं, यानी लगभग 35-40 प्रतिशत से अधिक भुगतान करना पड़ता है। इतना ही नहीं, इसके लिए एक निश्चित सुरक्षा निधि बतौर अग्रिम रेलवे के खाते में जमा भी करानी होती है, जो बाद में आपको वापस मिल जाती है। यह किसी भी प्रकार की क्षति को रोकने के लिए उठाया गया कदम है।

# ट्रेन बुकिंग के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आपको पड़ेगी जरूरत

अपनी ट्रेन बुक करने के लिए आपको एक आईडी पासवर्ड बनाना होगा, जिसके लिए वेरीफिकेशन भी जरूरी है। इसके लिए पैन नंबर भी अनिवार्य रूप से दर्ज करवाना पड़ता है। जब ये सारी जानकारी दर्ज हो जाएगी तो आपके मोबाइल नम्बर पर एक ओटीपी आएगा, जिसके जरिए यह वेरीफिकेशन सुनिश्चित होता है। वहीं, ओटीपी नंबर डालते ही अग्रिम प्रक्रिया के लिए उपयोगकर्ता (यूजर) तैयार हो जाता है। इसके अलावा, इसमें आधार नंबर भी दर्ज करना पड़ता है। यह सब करते ही आपकी बुकिंग कन्फर्म हो जाएगी।

# जानिए, बुक होने वाले ट्रेन में आप लगा सकते हैं कौन-कौन से कोच

एक बुक होने वाले ट्रेन में कई तरह के कोच लगाए जाते हैं। इसमें से फर्स्ट एसी, सेकंड एसी (टू-टियर), सेकंड एसी (सेकंड सिटिंग), थर्ड एसी, (थ्री टियर), एसी चेयरकार, एक्सक्लूसिव चेयरकार, एसए, एचबी, सेकंड क्लास, जनरल, पेंट्रीकार, नॉन एसी सैलून, एसी सैलून, स्लीपर, एसएलआर, हाई कैपिसिटी पार्सल वैन, जनरल व अन्य कोच लगाए जा सकते हैं। अब आपकी जो प्राथमिकता होगी, उसी के अनुरूप आपको धनराशि देनी पड़ेगी।

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार ने विवाह की न्यूनतम उम्र बढ़ाकर लड़कियों को सपने साकार करने का अवसर दिया

# ट्रेन बुकिंग के लिए कितने पैसे करने होंगे जमा, आप ऐसे कराइये ट्रेन बुक

बताया जाता है कि एक कोच के लिए 50 हजार रुपये जमा करने होते हैं। जबकि 18 डिब्बों की ट्रेन के लिए 9 लाख रुपये देने पड़ते हैं। वहीं, हॉल्टिंग चार्ज सात दिन के बाद 10 हजार रुपये प्रति कोच अतिरिक्त है। यदि आपको पूरी ट्रेन या एक-दो कोच बुक करानी है तो आप आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाएं। वहां पर एफटीआर सर्विस में जाएं। फिर आईडी पासवर्ड के जरिए उसे लॉग इन करें। ततपश्चात यहां मांगी गई सभी जानकारियों को भरें। पुनः डेट व अन्य जानकारी भरने के बाद ऑनलाइन पेमेंट करें।

यहां आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आप जिस ट्रेन को बुक करेंगे, उसमें 18 से 24 कोच होंगे। ट्रेन में तीन एसएलआर कोच जरूरी हैं। यदि आप कम कोच लेते हैं तो भी आपको सुरक्षा निधि 18 कोच के बराबर ही देना होगा। वहीं, आपको एक महीने से छह महीने पहले बुकिंग करानी होती है। जबकि बुकिंग की तिथि (डेट) के दो दिन पहले आप अपनी बुकिंग कैंसिल कर सकते हैं। आप यह भी जान लीजिए कि ट्रेन किसी भी स्टेशन पर 10 मिनट से ज्यादा नहीं रुकेगी।

बहरहाल, यदि आपकी शादी कहीं दूर-दराज के इलाके में हो रही हैं और आपको वहां पर अपनी बारात ले जाना है तो किसी भी तरह का तनाव (टेंशन) मत लीजिए। क्योंकि अब आपके पास ट्रेन की सुविधा है जो रिजर्व में दूर तक जा सकती है। बस इसके लिए आपको ट्रेन के कोच को अग्रिम तौर पर बुक करवाना होगा। पहले लोग बुकिंग कराना काफी मुश्किल भरा काम समझते थे, लेकिन अब आईआरसीटीसी ने इसे बेहद आसान बना दिया है। सच मानिए, पूरी प्रक्रिया में थोड़ा-साभी झंझट नहीं है। इसलिए उठाइए फायदा।

- कमलेश पांडेय

वरिष्ठ पत्रकार व स्तम्भकार

अन्य न्यूज़