इरफान खान की पत्नी सुतपा ने शेयर किया इमोशनल पोस्ट, पति को बाहों में भरकर कहे ये शब्द

इरफान खान की पत्नी सुतपा ने शेयर किया इमोशनल पोस्ट, पति को बाहों में भरकर कहे ये शब्द

अब इरफान खान इस दुनिया में नहीं रहे वह अपने पीछे 2 बच्चे और पत्नी सुतपा सिकदर को छोड़ कर चले गये हैं। ये वक्त परिवार के लिए बहुत ही दुखद है। इरफान की पत्नी सुतपा सिकदर ने अपनी फीलिंगस को एक पोस्ट लिखकर लोगों के साथ शेयर किया है।

अपने अभिनय के दम पर देश-दुनिया में अपना लौहा मनवाने वाले इरफान खान 29 अप्रैल 2020 को ये दुनिया छोड़कर अचानक चलें गये। सभी को पीछे छोड़कर वो अपने कारवां के साथ निकल गये। इरफान खान एक ऐसी शख्सित थे जिसने शायद की कोई नफरत कर सकता होगा। पर्दे पर भले ही इरफान किरदार में किसी का बुराकर दे लेकिन निजी जिंदगी में वह एक पवित्र आत्मा थे। इरफान के पिता हमेशा उनके बारे में एक बाद कहते थे कि पठान के घर में ब्राह्मण ने जन्म लिया है। वह हमेशा धर्म-जाति से उपर इंसानियत को सम्मान देते थे।

इसे भी पढ़ें: ऋषि कपूर की बेटी रिद्धिमा नहीं पहुंच पायी मुंबई, आलिया ने ऐसे कराए पिता के अंतिम दर्शन

अब इरफान खान इस दुनिया में नहीं रहे वह अपने पीछे 2 बच्चे और पत्नी सुतपा सिकदर को छोड़ कर चले गये हैं। ये वक्त परिवार के लिए बहुत ही दुखद है। इरफान की पत्नी सुतपा सिकदर ने अपनी फीलिंगस को एक पोस्ट लिखकर लोगों के साथ शेयर किया है। सुतपा सिकदर ने फेसबुक पर इरफान के साथ एक तस्वीर शेयर की है जिसमें वह इरफान खान के साथ उन्हें बाहों में भर कर बैठी हुई है उन्होंने तस्वीर के कैप्शन में लिखा कि मैंने इरफार को खोया नहीं है बल्कि हर हाल में पाया है। इरफान उस तस्वीर में काफी खुश नजर आ रहे हैं। इससे पहले इरफान खान ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि मेरी पत्नी मेरे लिए बहुत ही स्पेशल हैं उन्होंने मेरा हर समय ख्याल रखा हैं। हर हालात में और हर परिस्थिति में साथ दिया है। मैं आने जीना अपनी पत्नी के लिए चाहता हूं।

इरफान ने अपनी जिंदगी की हर जंग एक योद्धा की तरह लड़ी है फिर चाहें वो अपने करियर की हो या फिर जानलेवा बीमारी की। कैंसर जैसी बीमारी को उन्होंने हराया और फिल्म अंग्रेजी मीडियम से पर्दे पर वापसी की। देश के मुश्किल हालात जल्द से जल्द ठीक हो जाए उसके लिए बीमार होने के बावजूद उन्होंने 12 घंटे का व्रत रखा और ईश्वर से प्रार्थना की। इरफान खान एक अच्छे अभिनेता के साथ-साथ एक दिलखुश और धर्म-जाति से उपर इंसानियत को रखने वाले शख्स थे। इरफान का व्यक्तित्व ऐसा था जिसे आप एक शब्द में नहीं परिभाषित कर सकते। इरफान को जानने के लिए किताब का एक पन्ना पढ़ना काफी नहीं है उन्हें समझने के लिए पूरी किताब पढ़नी होगी।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

मनोरंजन जगत

झरोखे से...