तेजी से पूरे भारत में विस्तार के लिए तैयार है आय फाइनेंस

aye-finance-is-ready-to-expand-rapidly-across-india
यह आगे 70 उद्योग समूहों में 1,25,000 से अधिक ग्राहक ऋणों को दी गई सेवाओं से एकत्रित आंकड़ों का विश्लेषण करके बेहतर किया जाता है।

नई दिल्ली। कैपिटलजी समर्थित फिनटेक ऋणदाता कंपनी आय फायनेंस ने चालू वित्त वर्ष में आक्रामक रूप से पूरे भारत में विस्तार करने की योजनाओं की घोषणा की है। एक अत्यंत सफल वर्ष के बाद, जिसमें आय 1000 करोड़ रुपये के एयूएम आंकड़े की उपलब्धि तक पहुंची, इस फ़िनटेक ऋणदाता भारतीय सूक्ष्म उद्यमों की एक बड़ी संख्या की क्रेडिट जरूरतों को पूरा करने के लिए 67 नई शाखाएं खोलेगी। आय तेजी से अपनी पहुंच का विस्तार कर रहा है और इस दौर में आय महाराष्ट्र, गुजरात, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, चंडीगढ़ और हिमाचल प्रदेश के नए राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में प्रवेश कर रहा है और साथ ही तमिलनाडु, राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड और कर्नाटक में अपनी शाखा की उपस्थिति को मजबूत कर रहा है। इस विस्तार के बाद आय की शाखाओं की पहुंच 18 भारतीय राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में 171 शाखाओं तक पहुंच जाएगी।

इसे भी पढ़ें: JP Infratech का शुद्ध घाटा अप्रैल-जून तिमाही में बढ़कर 448 करोड़ रुपए

संजय शर्मा और विक्रम जेटली ने 2014 में भारत के सूक्ष्म उद्यमों को सस्ती ऋण की पेशकश करके उन्हें सशक्त बनाने के लिए आय फाइनेंस की शुरुआत की थी, और तब से यह एमएसएमई ऋणदाता 125 हजार से अधिक शुरुआती स्तर के व्यवसायों को औपचारिक अर्थव्यवस्था में ला चुका है। और इन अतिरिक्त 67 शाखाओं के माध्यम से आय ढेर सारे व्यवसायों के विकास का समर्थन करेगा और नए युग के भारत में उनकी वृद्धि को शक्ति देगा। आय फाइनेंस के एमडी और संस्थापक श्री संजय शर्मा ने कहा कि वह इन नई शाखाओं की संभावनाओं से बहुत उत्साहित हैं। “आय पर, हम एक संरचित उद्योग-समूह-एंटरप्राइज दृष्टिकोण का पालन करते हैं और समूह आधारित पद्धति का उपयोग करते हैं जो मजबूत जोखिम चयन के लिए प्रत्येक उद्योग क्लस्टर की अंतर्दृष्टि का उपयोग करता है।

इसे भी पढ़ें: पावरग्रिड बांड के जरिये 10,000 करोड़ रुपये जुटाने के लिये शेयरधारकों से मंजूरी लेगी

यह आगे 70 उद्योग समूहों में 1,25,000 से अधिक ग्राहक ऋणों को दी गई सेवाओं से एकत्रित आंकड़ों का विश्लेषण करके बेहतर किया जाता है। इन अतिरिक्त 67 शाखाओं के खुलने के साथ, जिनमें से 30 को पहले ही चालू किया जा चुका है, हमारे द्वारा वित्त पोषित सूक्ष्म उद्यमों की संख्या के साथ समूहों की संख्या काफी बढ़ जाएगी।” 5 साल की छोटी अवधि के भीतर, आय एक स्टार्ट अप से एक मिड-आकार की कंपनी बन गई है और प्रसार करने की इसकी क्षमता को इसके सभी फंडिंग पार्टनर्स - ऋण और साथ ही इक्विटी से जबरदस्त समर्थन द्वारा मान्य किया गया है। यह एकमात्र भारतीय वित्त कंपनी है जिसे कैपिटल द्वारा वित्त पोषित किया जाता है, और साथ ही इसके निपुण निवेशकों की सूची में सैफ पार्टनर्स, फाल्कन एज, एकिआॅन, एलजीटी और एमएजे इंवेस्ट शामिल हैं, जो भारत के सूक्ष्म उद्यमियों के लिए एक समावेशी पारिस्थितिकी तंत्र बनाने के इसके मिशन में इसका समर्थन करते हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़