स्टार्टअप में निवेश बढ़ाने के लिये DPIIT ने शुरू किया काम

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 31 2019 5:00PM
स्टार्टअप में निवेश बढ़ाने के लिये DPIIT ने शुरू किया काम
Image Source: Google

अधिकारी ने कहा कि इन मान्यताप्राप्त निवेशकों में न्यास, निजी व्यक्ति, स्टार्टअप के पारिवारिक सदस्य और गैर-सूचीबद्ध कंपनियां शामिल हो सकती हैं। इन्हें 25 करोड़ रुपये की सीमा से अधिक के निवेश पर भी एंजल कर से छूट दी जा सकती है।

नयी दिल्ली।उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) ऐसे मान्यताप्राप्त निवेशकों की परिभाषा पर काम कर रहा है जिन्हें स्टार्टअप में निवेश करने पर प्रोत्साहन दिया जा सकता है। एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी।वाणिज्य मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला यह विभाग पहले ही परिभाषा का मसौदा तैयार कर चुका है और इस मामले में विभिन्न संबंधित पक्षों से इस पर राय मांग रहा है। 

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: DPIIT ने ई-कॉमर्स नीति के मसौदे पर आये सुझावों का अध्ययन शुरू किया

अधिकारी ने कहा कि इन मान्यताप्राप्त निवेशकों में न्यास, निजी व्यक्ति, स्टार्टअप के पारिवारिक सदस्य और गैर-सूचीबद्ध कंपनियां शामिल हो सकती हैं। इन्हें 25 करोड़ रुपये की सीमा से अधिक के निवेश पर भी एंजल कर से छूट दी जा सकती है।वर्तमान में सरकार स्टार्टअप को 25 करोड़ रुपये तक के निवेश पर एंजल कर से पूरी तरह छूट लेने की अनुमति देती है।

इसे भी पढ़ें: DPIIT ने E-commerce नीति के मसौदे पर सार्वजनिक टिप्पणी का समय बढ़ाया



अधिकारी ने कहा, ‘‘हम मान्यता प्राप्त निवेशकों की परिभाषा पर विभिन्न पक्षों की राय मंगा रहे हैं। इन्हें आयकर अधिनियम की धारा 56 (दो) (सातबी) से छूट मिल सकती है। हम इन्हें सूचीबद्ध कंपनियों की तरह एक अलग श्रेणी में परिभाषित करेंगे। उसने कहा, ‘‘स्टार्टअप में निवेश पर प्रोत्साहन दिये जाने की जरूरत है और सरकार इस मामले में सभी बाधाएं दूर करने के लिये प्रतिबद्ध है।’’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story