नेटमैजिक के सांघी की होगी ज्योति स्ट्रक्चर्स, NCLT ने संशोधित बोली को मंजूरी दी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 28, 2019   11:10
नेटमैजिक के सांघी की होगी ज्योति स्ट्रक्चर्स, NCLT ने संशोधित बोली को मंजूरी दी

संशोधित बोली के तहत एकमात्र बोलीदाता सांघी ने एनसीएलटी से कहा कि वह 12 साल में 3,965 करोड़ रुपये का भुगतान करेंगे। मूल बोली में 15 साल में यह राशि देने की बात कही गयी थी।

मुंबई। राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) की मुंबई पीठ ने बुधवार को ज्योति स्ट्रक्चर्स के लिये नेटमैजिक के शरद सांघी की संशोधित समाधान योजना को मंजूरी दे दी। इसके तहत वह बैंको और कर्जदाताओं को 12 साल में 3,965 करोड़ रुपये का भुगतान करेंगे। अपीलीय न्यायाधिकरण के पिछले सप्ताह के आदेश के बाद यह निर्णय आया। दिलचस्प बात यह है कि एनसीएलटी ने मंगलवार (26 मार्च) को मामले पर अंतिम विचार के लिये सुनवाई को 26 अप्रैल तक के लिये स्थगति कर दिया था। 

इसे भी पढ़ें: NCLT ने ज्योति स्ट्रक्चर के परिसमापन आदेश को रद्द किया

ज्योति स्ट्रक्चर्स उन पहले 12 बड़े खातों में शामिल है जिसे रिजर्व बैंक ने जून 2017 में एनसीएलटी के पास भेजा था। कंपनी के ऊपर 7,010.55 करोड़ रुपये का बकाया है। संशोधित बोली के तहत एकमात्र बोलीदाता सांघी ने एनसीएलटी से कहा कि वह 12 साल में 3,965 करोड़ रुपये का भुगतान करेंगे। मूल बोली में 15 साल में यह राशि देने की बात कही गयी थी। सांघी डेटा सेंटर कंपनी नेटमैजिक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी हैं।

इसे भी पढ़ें: NCLT ने RBI को 259 करोड़ रुपये का आयकर रिफंड करने का निर्देश देने से किया इनकार

इसके साथ ही संशोधित योजना के तहत वह 147 करोड़ रुपये कर्मचारियों को और 11 करोड़ रुपये सांविधक बकाया के रूप में तत्काल भुगतान किये जाएंगे। शेष 115 करोड़ रुपये सात साल की अवधि में माल एवं सेवाओं की आपूर्ति करने वाले बकायेदारों को दिये जाएंगे। अपीलीय न्यायाधिकरण के पिछले सप्ताह के आदेश के बाद सांघी ने सोमवार को संशोधित बोली सौंपी। हालांकि, डीबीएस बैंक ने मामले में एनसीएलटी द्वारा सांघी की संशोधित समाधान योजना को स्वीकार किये जाने का विरोध किया। वह मामले में पहले चार्ज-धारक हैं। उन्होंने मामले को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देने का फैसला किया है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।