रिलायंस गैस का परिवहन करने वाली पाइपलाइन के लिये शुल्क दरों में 37% वृद्धि हुई

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 13 2019 6:01PM
रिलायंस गैस का परिवहन करने वाली पाइपलाइन के लिये शुल्क दरों में 37% वृद्धि हुई
Image Source: Google

फिलहाल यह 52.33 रुपये प्रति यूनिट (एमएमबीटीयू) है। शुल्क की मौजूदा दर एक अप्रैल 2009 से 31 मार्च 2019 के लिये है। नयी दर पाइपलाइन की परिचालक ईस्ट वेस्ट पाइपलाइन लि. की ओर से की गयी मांग के लगभग आधे के बराबर है।

नयी दिल्ली। तेल नियामक पीएनजीआरबी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के पूर्वी अपतटीय केजी-डी6 से गैस ग्राहकों तक पहुंचाने वाली पाइपलाइन के लिये शुल्क में एक अप्रैल से 37 प्रतिशत वृद्धि को मंजूरी दी है। अंतिम शुल्क आदेश में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड (पीएनजीआरबी) ने 12 मार्च के आदेश में कहा है कि ईस्ट-वेस्ट पाइपलाइन से प्राकृतिक गैस परिवहन की लागत एक अप्रैल से प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट (एमएमबीटीयू) 71.66 रुपये होगी।

इसे भी पढ़ें: सेंसेक्स ने मारी 481 अंक की लंबी छलांग, निफ्टी 11,300 अंक के पार

फिलहाल यह 52.33 रुपये प्रति यूनिट (एमएमबीटीयू) है। शुल्क की मौजूदा दर एक अप्रैल 2009 से 31 मार्च 2019 के लिये है। नयी दर पाइपलाइन की परिचालक ईस्ट वेस्ट पाइपलाइन लि. की ओर से की गयी मांग के लगभग आधे के बराबर है। कंपनी ने एक अप्रैल 2018 से शुल्क दर बढ़ाकर 151.84 रुपये प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट करने की मांग की थी।

इसे भी पढ़ें: अमीरों में आबाद हुए मुकेश अंबानी, दुनिया के 8वें सबसे अमीर व्यक्ति बने

शुल्क दर में वृद्धि से उर्वरक के साथ-साथ सीएनजी के दाम बढ़ेंगे जिसमें गैस आंध्र प्रदेश में काकीनाड़ा से गुजरात के भड़ूच तक गयी पाइपलाइ से ली जाती है। पीएनजीआरबी ने अपने 49 पृष्ठ के आदेश में लागत आकलन तथा अन्य मानदंडों के आधार पर शुल्क दरें निर्धारित की हैं। शुल्क में सूचना तथा आंकड़ों के आडिट के आधार पर संशोधन किया जाएगा। 



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story