ओएनजीसी को पांच महीने के बाद एचपीसीएल बोर्ड में एक निदेशक मिला

ONGC
google free license
तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) को आखिरकार पांच महीने से अधिक समय के बाद हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) के बोर्ड में एक निदेशक मिल गया है। गौरतलब है कि ओएनजीसी ने 36,915 करोड़ रुपये में एचपीसीएल का अधिग्रहण किया था।

नयी दिल्ली। तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) को आखिरकार पांच महीने से अधिक समय के बाद हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) के बोर्ड में एक निदेशक मिल गया है। गौरतलब है कि ओएनजीसी ने 36,915 करोड़ रुपये में एचपीसीएल का अधिग्रहण किया था। शेयर बाजार को दी जानकारी के मुताबिक पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने 22 जून को एचपीसीएल के बोर्ड में निदेशक के रूप में ओएनजीसी के निदेशक (ऑफशोर) पंकज कुमार की नियुक्ति के लिए अपनी मंजूरी दी। पांच महीने से अधिक समय से ओएनजीसी का एचपीसीएल के बोर्ड में कोई प्रतिनिधि नहीं था।

इसे भी पढ़ें: शिंदे कैंप के खिलाफ मुंबई में प्रदर्शन तेज, CM ठाकरे की पत्नी ने संभाला मोर्चा, बागियों से कर रही संपर्क

एचपीसीएल ने डेढ़ साल से अधिक समय तक (जनवरी 2018 और अगस्त 2019 के बीच) ओएनजीसी को अपने प्रवर्तक के रूप में मान्यता नहीं दी थी, जबकि सरकार ने कंपनी में अपनी पूरी 51.11 प्रतिशत हिस्सेदारी उसे बेच दी थी।

इसे भी पढ़ें: राजिंदर नगर उपचुनाव: पांचवें दौर की मतगणना के बाद भाजपा उम्मीदवार एक हज़ार मतों से पीछे

बाजार नियामक सेबी के हस्तक्षेप के बाद ही एचपीसीएल नरम पड़ी और ओएनजीसी को एक निदेशक नियुक्त करने का अधिकार मिला, जिसे एचपीसीएल ने ‘सरकारी नामित निदेशक (ओएनजीसी का प्रतिनिधि)’ कहा। एचपीसीएल ने शेयर बाजार को बताया, ‘‘पंकज कुमार को 22 जून 2022 से कंपनी के बोर्ड में सरकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़