SBI की अनोखी स्कीम, समय पर घर नहीं मिला तो बैंक वापस करेगा होम लोन की रकम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 9, 2020   11:17
SBI की अनोखी स्कीम, समय पर घर नहीं मिला तो बैंक वापस करेगा होम लोन की रकम

सार्वजनिक क्षेत्र के भारतीय स्टेट बैंक ने खरीदार गारंटी के साथ आवासीय बिल्डर वित्त योजना शुरू की है।एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि यदि किसी खरीदार ने दो करोड़ रुपये का फ्लैट बुक कराया हैऔर एक करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है।ऐसे में यदि परियोजना अटक जाती है तो हम खरीदार का एक करोड़ रुपये रिफंड करेंगे।

मुंबई। सार्वजनिक क्षेत्र के भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने ‘खरीदार गारंटी के साथ आवासीय बिल्डर वित्त’ (आरबीबीजी) योजना शुरू की है। इस योजना का मकसद आवास बिक्री को प्रोत्साहन देना और घर खरीदारों का भरोसा कायम करना है। योजना के तहत एसबीआई उससे कर्ज लेने वाले ग्राहकों को चुनिंदा आवासीय परियोजनाओं के पूरा होने की गारंटी देगा। शुरुआत में यह योजना 10 शहरों में लागू होगी। 

इसे भी पढ़ें: शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में करीब 450 अंक की गिरावट, निफ्टी 145 अंक टूटा

एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि हम किसी परियोजना में आवंटन पत्र मिलने तक गारंटी देंगे। यह योजना घर खरीदारों, बिल्डरों के साथ-साथ बैंक के लिए फायदे का सौदा होगी। उन्होंने बताया कि आरबीबीजी के तहत बैंक परियोजना को आवंटन प्रमाणपत्र (ओसी) मिलने तक गारंटी देगा। उन्होंने समझाते हुए कहा कि यदि किसी खरीदार ने दो करोड़ रुपये का फ्लैट बुक कराया है और एक करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है। ऐसे में यदि परियोजना अटक जाती है तो हम खरीदार का एक करोड़ रुपये रिफंड करेंगे। गारंटी की अवधि ओसी से जुड़ी रहेगी।

इसे भी पढ़ें: SBI प्रमुख बोले, भारत बनेगा पांच हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था, पर समयसीमा बताना मुश्किल 

यह गारंटी रेरा पंजीकृत परियोजनाओं के लिए मिलेगी। रेरा की समयसीमा पार होने के बाद परियोजना को अटका माना जाएगा। कुमार ने कहा कि इस योजना से घर खरीदारों का भरोसा बढ़ेगा और घरों की बिक्री बढ़ेगी। शुरुआत में एसबीआई ने इस योजना के लिए रियल एस्टेट कंपन सनटेक रियल्टी से करार किया है। यह करार सनटेक रियल्टी की मुंबई महानगर क्षेत्र की तीन जारी परियोजनाओं के लिए किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।