सेंसेक्स और निफ्टी की सतर्क शुरुआत, IT शेयर टूटे, रुपया छह पैसे मजबूत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2019   11:32
सेंसेक्स और निफ्टी की सतर्क शुरुआत, IT शेयर टूटे, रुपया छह पैसे मजबूत

सेंसेक्स की कंपनियों में इन्फोसिस में तीन प्रतिशत की गिरावट आई। एचसीएल टेक 1.67 प्रतिशत, टेक महिंद्रा 1.65 प्रतिशत, टीसीएस 1.52 प्रतिशत, भारती एयरटेल एक प्रतिशत तथा बजाज आटो 0.91 प्रतिशत के नुकसान में थे।

मुंबई। सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों के शेयरों में गिरावट और मिलेजुले वैश्विक रुख के बीच शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार सतर्क रुख के साथ खुले। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स सकारात्मक रुख से खुलने के बाद 15.89 अंक या 0.04 प्रतिशत के नुकसान से 40,559.28 अंक पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंजका निफ्टी भी शुरुआती कारोबार में 20.45 अंक या 0.17 प्रतिशत के नुकसान से 11,947.95 अंक पर आ गया। 

इसे भी पढ़ें: शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स ने लगाई 260 अंक की उछाल, रिलायंस के शेयर में तेजी

सेंसेक्स की कंपनियों में इन्फोसिस में तीन प्रतिशत की गिरावट आई। एचसीएल टेक 1.67 प्रतिशत, टेक महिंद्रा 1.65 प्रतिशत, टीसीएस 1.52 प्रतिशत, भारती एयरटेल एक प्रतिशत तथा बजाज आटो 0.91 प्रतिशत के नुकसान में थे। वहीं दूसरी ओर सनफार्मा 3.16 प्रतिशत, एनटीपीसी 2.69 प्रतिशत, पावरग्रिड 2.30 प्रतिशत तथा रिलायंस इंडस्ट्रीज 1.74 प्रतिशत के लाभ में चल रहे थे। कारोबारियों ने कहा कि अमेरिका में कार्य वीजा के लिए जरूरतों में बदलाव की खबरों से आईटी शेयरों में गिरावट आई। इससे कुल बाजार धारणा प्रभावित हुई। 

शुरुआती कारोबार में रुपया छह पैसे मजबूत

विदेशी कोषों के प्रवाह और कच्चे तेल की कीमतों में नरमी के बीच शुक्रवार को रुपया छह पैसे की बढ़त के साथ 71.70 प्रति डॉलर पर कारोबार कर रहा था। अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में रुपया एक पैसे की गिरावट के साथ 71.77 प्रति डॉलर पर खुला। हालांकि, बाद में इसमें कुछ बढ़त आई और यह छह पैसे की बढ़त के साथ 71.70 प्रति डॉलर पर पहुंच गया। बृहस्पतिवार को रुपया 71.76 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। कारोबारियों ने कहा कि बाजार को अमेरिका-चीन व्यापार करार को लेकर कुछ नए संकेतों का इंतजार है। इसी वजह से रुपये में सीमित दायरे में उतार-चढ़ाव हो रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।