स्टीव स्मिथ फिर चमके, ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे वनडे में भारत को रौंदकर सीरीज जीती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2020   18:19
  • Like
स्टीव स्मिथ फिर चमके, ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे वनडे में भारत को रौंदकर सीरीज जीती

आस्ट्रेलिया ने स्टीव स्मिथ की 64 गेंद में 104 रन की शतकीय पारी से रनों का पहाड़ खड़ा करके रविवार को यहां दूसरे वनडे में भारत को 51 रन से शिकस्त देकर तीन मैचों की श्रृंखला में 2-0 से अजेय बढ़त हासिल कर ली।

सिडनी। आस्ट्रेलिया ने स्टीव स्मिथ की 64 गेंद में 104 रन की शतकीय पारी से रनों का पहाड़ खड़ा करके रविवार को यहां दूसरे वनडे में भारत को 51 रन से शिकस्त देकर तीन मैचों की श्रृंखला में 2-0 से अजेय बढ़त हासिल कर ली। आस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए स्मिथ के शतक के अलावा चार अर्धशतकीय पारियों से चार विकेट पर 389 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। आस्ट्रेलियाई ‘रन मशीन’ स्मिथ का यह भारत के खिलाफ 50 ओवर के प्रारूप में पांचवां शतक है और उन्होंने श्रृंखला के शुरूआती मैच में सैकड़े के बाद लगातार दूसरा शतक जमाया। पहले वनडे में शतक के लिये उन्होंने 66 गेंद का सामना किया था।

इसे भी पढ़ें: पीठ की सर्जरी के एक साल बाद हार्दिक पांड्या ने की गेंदबाजी, आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैदान में उतरे

भारत के लिये 390 रन का लक्ष्य काफी बड़ा साबित हुआ जो कप्तान विराट कोहली (89) और लोकेश राहुल (76) के अर्धशतकों के बावजूद निर्धारित 50 ओवर में नौ विकेट पर 338 रन ही बना सकी। इस बड़े लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम के लिये फार्म में चल रहे शिखर धवन (30) और मंयक अग्रवाल (28) ने शुरूआत बाउंड्री से की। अग्रवाल ने पहले ही ओवर में दो बार गेंद सीमारेखा के पार करायी जबकि धवन ने मिशेल स्टार्क पर लगातार तीन चौके जमाये। अग्रवाल की शानदार कवर ड्राइव से मेहमान टीम ने 6.1 ओवर में 50 रन का स्कोर पार कर लिया था।

हालांकि तेजी से रन जुटाने के प्रयास में धवन विकेट गंवा बैठे। फिर कोहली उतरे और भारतीय कप्तान ने हमेशा की तरह अपनी 87 गेंद की पारी के दौरान कुछ बेहतरीन शॉट लगाते हुए भारत को लक्ष्य का पीछा करने की दौड़ में बनाये रखा। भारत ने 9-10 रन प्रति ओवर के जरूरी रन रेट को बनाये रखने की कोशिश की। लेकिन तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड ने आस्ट्रेलिया को सबसे बड़ी सफलता दिलायी जब उनकी गेंद पर मोइजेस हेनरिक्स ने मिडविकेट पर डाइव करते हुए कोहली का कैच लपक लिया। इसके बाद हार्दिक पंड्या क्रीज पर उतरे और इस हरफनमौला ने लोकेश राहुल के साथ मिलकर कुछ बड़े शॉट जमाये। लेकिन इतना ही काफी नहीं था। राहुल अपनी 66 गेंद की पारी के दौरान पांच छक्के और चार चौके जमाकर पवेलियन पहुंच गये। इसके बाद भारतीय टीम की उम्मीद टूट गयी।

आस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने अपने 10 ओवर में 67 रन देकर तीन विकेट हासिल किये। स्मिथ की 104 रन की पारी के अलावा विस्फोटक सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर ने 77 गेंद में 83 रन बनाये जबकि कप्तान आरोन फिंच ने पहले विकेट के लिये 23 ओवर में 142 रन की साझेदारी के दौरान 60 रन का योगदान दिया। मार्नस लाबुशेन और ग्लेन मैक्सवेल की जोड़ी ने इसी आक्रामकता को बरकरार रखते हुए आस्ट्रेलिया को विशाल स्कोर तक पहुंचाया। लाबुशेन ने 70 और बिग हिटर मैक्सवेल ने 29 गेंद में चार छक्के और इतने ही चौके की मदद से नाबाद 63 रन बनाये। स्मिथ ने अपनी 104 रन की पारी के दौरान 14 चौके और दो छक्के जड़े जबकि वार्नर ने सात बार गेंद सीमारेखा के पार करायी और तीन छक्के जड़े, हालांकि वह श्रेयस अय्यर के डीप से सीधे फेंके गये शानदार थ्रो के कारण अपने शतक से चूक गये। स्मिथ ने अपने पारंपरिक अंदाज में खेलते हुए विकेट के चारों ओर शॉट जमाये और भारतीय गेंदबाजी की धज्जियां उड़ायीं।

उन्हें आउट करने के लिये भारत को हरफनमौला हार्दिक पंड्या की मदद लेनी पड़ी जिन्होंने एक साल पहले हुई पीठ की सर्जरी के बाद पहली बार गेंदबाजी की और वह अपने तीसरे ओवर में इस आस्ट्रेलियाई को लुभाकर आउट करने में भी सफल रहे। उनकी गेंद को खेलने के प्रयास में स्मिथ शार्ट थर्ड मैन पर मोहम्मद शमी को कैच दे बैठे। इससे पहले वार्नर ने पहले ही ओवर में शमी की गेंद को बाउंड्री के लिये भेजकर आस्ट्रेलियाई पारी शुरू करायी। उन्होंने अपने अंदाज से बड़ी पारी खेलने के इरादे जाहिर कर दिये थे। श्रृंखला के शुरूआती मैच में काफी रन लुटाने के बाद शीर्ष तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने मेडन ओवर से शुरूआत की और विकेट से अच्छी रफ्तार हासिल की जिस पर अच्छी खासी घास थी।

लेकिन वह जल्द ही लय खो बैठे और आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने धीमी शुरूआत के बाद तेजी पकड़ना शुरू किया। फिंच ने बुमराह की गेंद को बैकवर्ड स्क्वायर लेग की ओर भेजकर अपना पहला चौका जड़ा जबकि गेंदबाज की रफ्तार 146-147 किमी प्रति घंटा थी। युवा नवदीप सैनी को जल्दी ही गेंदबाजी पर लगाया गया और वार्नर ने उनका स्वागत स्क्वायर लेग बाउंड्री पर छक्का लगाकर किया। इन परिस्थितियों में सैनी के कम अनुभव का पूरा फायदा उठाते हुए वार्नर ने उनके ओवर में दो चौके जमाये और फिर पारी के आठवें ओवर में शमी की गेंद का भी यही हाल किया जिससे आस्ट्रेलिया ने 50 रन पूरे कर एक और मजबूत शुरूआत की। आस्ट्रेलिया ने पूरी पारी के दौरान लय बनाये रखी और भारतीय गेंदबाजों ने गर्मी में काफी पसीना बहाया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




आ गई IPL के खिलाड़ियों की नीलामी की डेट, BCCI ने दी जानकारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   18:10
  • Like
आ गई IPL के खिलाड़ियों की नीलामी की डेट, BCCI ने दी जानकारी

बीसीसीआई अधिकारी ने कहा, आईपीएल के लिए 18 फरवरी को खिलाड़ियों की नीलामी हो सकती है।बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली ने हालांकि बार-बार जोर देकर कहा है कि इसका आयोजन घरेलू मैदान पर करने के लिए हर संभव कोशिश की जाएगी।

नयी दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 2021 सत्र के लिए खिलाड़ियों की नीलामी 18 फरवरी को हो सकती है। बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) के अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। अधिकारी ने कहा, ‘‘ नीलामी 18 फरवरी को हो सकता है। इसके लिए स्थल पर अभी फैसला होना है।’’ बीसीसीआई को अभी यह तय करना है कि आगामी आईपीएल का आयोजन भारत में होगा या नहीं। बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली ने हालांकि बार-बार जोर देकर कहा है कि इसका आयोजन घरेलू मैदान पर करने के लिए हर संभव कोशिश की जाएगी।

इसे भी पढ़ें: दक्षिण अफ्रीका में शिविर लगाने की योजना बना रहा है भारतीय तैराकी महासंघ

कोरोना वायरस महामारी के कारण 2020 में आईपीएल का आयोजन संयुक्त अरब अमीरात में हुआ था। अगले महीने से इंग्लैंड के खिलाफ खेली जानी वाली घरेलू श्रृंखला का सुचारू संचालन इस आकर्षक लीग के भारत में आयोजन का रास्ता साफ करेगा। खिलाड़ियों को रिटेन करने की आखिरी तारीख 20 जनवरी थी जबकि चार फरवरी तक ट्रेडिग विंडो (खिलाड़ियों का एक टीम से दूसरे टीम में हस्तांतरण) जारी रहेगा। टीमों से रिलीज किये गये खिलाड़ी में ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ (राजस्थान रॉयल्स) और ग्लेन मैक्सवेल (किंग्स इलेवन पंजाब) जैसे दिग्गज भी शामिल है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




ऋषभ पंत की विकेटकीपिंग पर हो रही आलोचनाओं पर ऋद्धिमान साहा ने दिया बयान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   15:43
  • Like
ऋषभ पंत की विकेटकीपिंग पर हो रही आलोचनाओं पर ऋद्धिमान साहा ने दिया बयान

अनुभवी विकेटकीपर रिद्धिमान साहा ने कहा कि पंत विकेटकीपर के रूप में धीरे-धीरे सुधार करेंगे।राष्ट्रीय टीम के शीर्ष विकेटकीपर माने जाने वाले साहा ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि पंत की साहसिक पारी के बाद उनके लिए टीम के दरवाजे बंद हो जाएंगे।

कोलकाता। ऋषभ पंत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिसबेन में खेले गये चौथे टेस्ट के आखिरी दिन ऐतिहासिक पारी खेल कर भारत को मैच और टेस्ट श्रृंखला (2-1) का विजेता बनाने में अहम भूमिका निभाई लेकिन उनके विकेटकीपिंग कौशल पर अब भी सवाल उठ रहे हैं, जिस पर अनुभवी विकेटकीपर रिद्धिमान साहा ने शुक्रवार को कहा कि यह युवा खिलाड़ी धीरे-धीरे इसमें वैसे ही सुधार करेगा जैसे कोई ‘बीजगणित’ सीखता है। राष्ट्रीय टीम के शीर्ष विकेटकीपर माने जाने वाले साहा ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि पंत की साहसिक पारी के बाद उनके लिए टीम के दरवाजे बंद हो जाएंगे। वह अपना सर्वश्रेष्ठ करना जारी रखेंगे और चयन की माथापच्ची टीम प्रबंधन पर छोड़ देना चहते है़ं।

इसे भी पढ़ें: बड़ौदा ने अनुशासनहीनता के लिए दीपक हुड्डा को मौजूदा घरेलू सत्र के लिए निलंबित किया

ऑस्ट्रेलिया में ऐतिहासिक श्रृंखला जीतने के बाद भारत लौटे साहा ने कहा, ‘‘ आप पंत से पूछ सकते हैं, हमारा रिश्ता मैत्रीपूर्ण है और हम दोनों अंतिम 11 में जगह बनाने वालों की मदद करते हैं। व्यक्तिगत तौर पर हमारे बीच कोई मनमुटाव नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मैं इसे नंबर एक और दो के तौर पर नहीं देखता। जो अच्छा करेगा टीम में उसे मौका मिलेगा। मैं अपना काम करता रहूंगा। चयन मेरे हाथ में नहीं है, यह प्रबंधन पर निर्भर करता है।’’ साहा ने गाबा में मैच के पांचवें दिन नाबाद 89 रन की पारी खेलने वाले पंत की तारीफ करते हुए कहा, ‘‘ कोई भी पहली कक्षा में बीजगणित नहीं सीखता। आप हमेशा एक-एक कदम आगे बढ़ते हैं। पंत अपना सर्वश्रेष्ठ कर रहा है और निश्चित रूप से सुधार (विकेटकीपिंग) करेगा। उसने हमेशा परिपक्वता दिखाई है और खुद को साबित किया है। लंबे समय के लिए यह भारतीय टीम के लिए अच्छा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ एकदिवसीय और टी20 प्रारूप से बाहर होने के बाद उसने जो जज्बा दिखाया वह वास्तव में असाधारण है।’’

इसे भी पढ़ें: धोनी से तुलना किए जाने पर पंत ने कहा, 'खुद का बनाना चाहता हूँ नाम'

ब्रिसबेन टेस्ट के बाद पंत की तुलना दिग्गज महेन्द्र सिंह धोनी से की जाने लगी है लेकिन साहा ने कहा, ‘‘ धोनी , धोनी ही रहेंगे और हर किसी की अपनी पहचान होती है।’’ साहा एडीलेड में खेले गये दिन-रात्रि टेस्ट की दोनों पारियों में महज नौ और चार ही बना सके थे। इस दौरान भारतीय टीम दूसरी पारी में महज 36 रन पर ऑलआउट हो गयी थी और इसके बाद साहा को बाकी के तीन मैचों में मौका नहीं मिला। इस 36 साल के विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा, ‘‘ कोई भी बुरे दौर से गुजर सकता है। एक पेशेवर खिलाड़ी हमेशा अच्छे और खराब प्रदर्शन को स्वीकार करता है, चाहे वह फॉर्म के साथ हो या फिर आलोचना के साथ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मैं रन बनाने में असफल रहा इसीलिये पंत को मौका मिला। यह काफी सरल है। मैंने हमेशा अपने कौशल में सुधार करने पर ध्यान दिया है और अपने करियर के बारे में कभी नहीं सोचा।जब मैंने क्रिकेट खेलना शुरू किया था तब से मेरी सोच ऐसी है। अब भी मेरा वही दृष्टिकोण है।’’

इसे भी पढ़ें: भारत से मिली हार के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम में ‘व्यापक फेरबदल’ संभव : वार्न

साहा ने कहा कि एडीलेड में 36 रन पर ऑलआउट होने और कई खिलाड़ियों के अनुभवहीन होने के बाद यह श्रृंखला जीतना ‘विश्व कप जीतने से कम नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘‘ मैं खेल नहीं रहा था (तीन मैचों में), फिर भी मैं हर पल का लुत्फ उठा रहा था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हमें 11 खिलाड़ियों को चुनने में चुनौती का सामना करना पड़ रहा था। ऐसे में यह शानदार उपलब्धि है। जाहिर है यह हमारी सबसे बड़ी श्रृंखला जीत है। विराट कोहली की गैरमौजूदगी में टीम की कमान संभालने वाले अजिंक्य रहाणे के बारे में साहा ने कहा कि मुश्किल परिस्थितियों में भी शांत रहने से उन्हें सफलता मिली। उन्होंने कहा, ‘‘ वह शांति से अपना काम करते थे। विराट की तरह वह भी खिलाड़ियों पर भरोसा करते हैं। विराट के उलट वह ज्याद जोश नहीं दिखाते। रहाणे को खिलाड़ियों की हौसलाअफजाई करना आता है। यही उनकी सफलता का राज है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




ऑस्ट्रेलिया में श्रृंखला जीतने के बाद स्वदेश लौटे अश्विन और वाशिंगटन सुंदर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   12:41
  • Like
ऑस्ट्रेलिया में श्रृंखला जीतने के बाद स्वदेश लौटे अश्विन और वाशिंगटन सुंदर

वाशिंगटन ने गाबा में अंतिम टेस्ट में पदार्पण करते हुए ऑस्ट्रेलिया के घातक गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ पहली पारी में 62 रन की पारी खेली थी और शारदुल ठाकुर के साथ 123 रन की साझेदारी की थी जिससे भारत मुश्किल स्थिति में घिरने के बाद वापसी करने में सफल रहा था।

चेन्नई। ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट श्रृंखला जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे सीनियर आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और उभरते हुए आलराउंडर वाशिंगटन सुंदर शुक्रवार को स्वदेश लौट आए। राज्य सरकार के नियमों के अनुसार तमिलनाडु के ये दोनों खिलाड़ी अगले दो दिन तक पृथकवास में रहेंगे। अश्विन ने पहले तीन मैचों में 12 विकेट चटकाए लेकिन चोट के कारण वह ब्रिसबेन में निर्णायक चौथे टेस्ट में नहीं खेल पाए। पीठ में दर्द के बावजूद अश्विन ने सिडनी में तीसरे टेस्ट के अंतिम दिन हमुना विहारी के साथ 62 रन की अटूट साझेदारी करके भारत को टेस्ट ड्रॉ कराने में अहम भूमिका निभाई थी। वाशिंगटन ने गाबा में अंतिम टेस्ट में पदार्पण करते हुए ऑस्ट्रेलिया के घातक गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ पहली पारी में 62 रन की पारी खेली थी और शारदुल ठाकुर के साथ 123 रन की साझेदारी की थी जिससे भारत मुश्किल स्थिति में घिरने के बाद वापसी करने में सफल रहा था। उन्होंने मैच में चार विकेट भी चटकाए। भारत ने यह टेस्ट तीन विकेट से जीता था।

इसे भी पढ़ें: बड़ौदा ने अनुशासनहीनता के लिए दीपक हुड्डा को मौजूदा घरेलू सत्र के लिए निलंबित किया

अश्विन और वाशिंगटन को पांच फरवरी से चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ शुरू हो रही चार मैचों की टेस्ट श्रृंखला के पहले दो मैचों के लिए भी भारतीय टीम में जगह दी गई है। कप्तान अजिंक्य रहाणे और रोहित शर्मा सहित भारतीय टीम के कई अन्य सदस्य गुरुवार को स्वदेश लौटे थे। पहले टेस्ट के बाद कप्तान विराट कोहली की गैरमौजूदी और कई अहम खिलाड़ियों के चोटिल होने के बावजूद भारत ने एडीलेड में करारी हार के बाद जोरदार वापसी करते हुए श्रृंखला 2-1 से जीती थी। भारत एडीलेड टेस्ट की दूसरी पारी में 36 रन पर ढेर हो गया था जो टेस्ट क्रिकेट में उसका न्यूनतम स्कोर है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept