रहाणे की कुशल कप्तानी और गेंदबाजों ने भारत को दिलाई अच्छी शुरूआत, 195 में निपटी आस्ट्रेलिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 26, 2020   13:23
रहाणे की कुशल कप्तानी और गेंदबाजों ने भारत को दिलाई अच्छी शुरूआत, 195 में निपटी आस्ट्रेलिया

पहले टेस्ट की हार को भुलाते हुए भारत ने अजिंक्य रहाणे की कुशल कप्तानी, जसप्रीत बुमराह और रविचंद्रन अश्विन की शानदार गेंदबाजी के दम पर वापसी करते हुए दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शनिवार को आस्ट्रेलिया को पहली पारी में 195 रन पर आउट कर दिया।

मेलबर्न। पहले टेस्ट की हार को भुलाते हुए भारत ने अजिंक्य रहाणे की कुशल कप्तानी, जसप्रीत बुमराह और रविचंद्रन अश्विन की शानदार गेंदबाजी के दम पर वापसी करते हुए दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शनिवार को आस्ट्रेलिया को पहली पारी में 195 रन पर आउट कर दिया। भारत ने जवाब में 11 ओवर में एक विकेट पर 36 रन बना लिये थे। एकमात्र विकेट सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल के रूप में गिरा जो खाता खोले बिना मिशेल स्टार्क की गेंद पर आउट हो गए। अपना पहला टेस्ट खेल रहे शुभमन गिल ने हालांकि आस्ट्रेलिया के खतरनाक तेज आक्रमण का बखूबी सामना करते हुए 28 रन बना लिये हैं।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के खिलाफ पहले टेस्ट में न्यूजीलैंड की शुरुआत हुई खराब, सलामी बल्लेबाजआउट

उनके साथ चेतेश्वर पुजारा सात रन बनाकर क्रीज पर हैं। पहले दिन का खेल भारतीय गेंदबाजी ईकाई के नाम रहा लेकिन कार्यवाहक कप्तान रहाणे को भी अपने संसाधनों का चतुराई से उपयोग करने के लिये श्रेय मिलना चाहिये। आस्ट्रेलियाई टीम पहली पारी में 72 . 3 ओवर में आउट हो गई। बुमराह ने 16 ओवर में 56 रन देकर चार और अश्विन ने 24 ओवर में 35 रन देकर तीन विकेट लिया। टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण कर रहे मोहम्मद सिराज ने 15 ओवर में 40 रन देकर दो विकेट चटकाये। उन्होंने चयनकर्ताओं के भरोसे पर खरा उतरते हुए मार्नस लाबुशेन (48) और कैमरन ग्रीन (12) को पवेलियन भेजा। इस श्रृंखला में जबर्दस्त फॉर्म में दिख रहे अश्विन ने आस्ट्रेलिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज स्टीव स्मिथ को खाता खोले बिना ही रवाना कर दिया।

इसे भी पढ़ें: फीफा की घोषणा, 2023 में होने वाले महिला फुटबॉल विश्व कप में चार सीधे कोटे मिलेंगे

टॉस जीतकर बल्लेबाजी का आस्ट्रेलिया का फैसला गलत साबित होता दिखा और भारतीय गेंदबाजों ने उसका पूरा फायदा उठाया। नियमित कप्तान विराट कोहली की गैर मौजूदगी में भी भारतीय टीम काफी चुस्त नजर आई। कुछ बेहतरीन कैच लपके गए और खिलाड़ियों में जोश की कमी नहीं थी। रहाणे ने पहले ही घंटे में अश्विन को गेंद सौंपकर अच्छा फैसला लिया जिन्होंने जो बर्न्स (0) को ऋषभ पंत के हाथों विकेट के पीछे लपकवाया। अपनी रफ्तार और विविधता के साथ अश्विन को विकेट से टर्न और उछाल भी मिला। उन्होंने मैथ्यू वेड को ऊंचा शॉट खेलने पर मजबूर किया और रविंद्र जडेजा ने पीछे की ओर दौड़ते हुए शानदार कैच लपका। वहीं स्मिथ लेग गली में पुजारा को कैच देकर लौटे। रहाणे ने सिराज को लंच से पहले एक भी ओवर नहीं दिया क्योकि उन्हें पता है कि सिराज पुरानी गेंद से कमाल करते हैं। लंच के बाद बुमराह ने ट्रेविस हेड को आउट करके उनके और लाबुशेन के बीच चौथे विकेट की 86 रन की साझेदारी को तोड़ा। सिराज ने लाबुशेन को पवेलियन भेजा जिन्होंने आस्ट्रेलिया के लिये सर्वाधिक 48 रन बनाये।

गिल ने जमीन की ओर जाती गेंद को समय रहते लपक लिया। इसके बाद सिराज ने ग्रीन को पगबाधा आउट किया। वहीं कप्तान टिम पेन (13) एडीलेड की पारी को दोहरा नहीं सके और अश्विन ने उन्हें बैकवर्ड स्क्वेयर लेग पर हनुमा विहारी के हाथों लपकवाया। खेल के आखिरी घंटे में गिल ने बेहतरीन संयम का प्रदर्शन करके दिखा दिया कि उन्हें भविष्य का सितारा क्यो कहा जाता है।उन्होंने सकारात्मक बल्लेबाजी का प्रदर्शन करते हुए पैट कमिंस, नाथन लियोन और मिशेल स्टार्क को हावी नहीं होने दिया। पहले टेस्ट में अपने न्यूनतम टेस्ट स्कोर 36 रन पर आउट हुई भारतीय टीम आठ विकेट से हारने के बाद चार मैचों की श्रृंखला में 0 . 1 से पीछे है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।