जानिए कैसे कराएं उद्योग आधार में व्यापार का रजिस्ट्रेशन?

जानिए कैसे कराएं उद्योग आधार में व्यापार का रजिस्ट्रेशन?

उद्योग आधार का रजिस्ट्रेशन उद्यम शुरू करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए वरदान ही है। इसमें ना कोई दलाल का चक्कर ना तो ₹1 लगना है और गवर्नमेंट के साथ जुड़कर आप आसानी से अपने कार्य की शुरुआत कर सकते हैं।

हर व्यक्ति में अपार क्षमता होती है और अगर वह आगे बढ़ना चाहे, तो वह किस मंजिल तक पहुंच जाएगा, इसका किसी को अंदाजा नहीं होता है। वर्तमान समय में ऐसे अनगिनत उदाहरण हैं, जिससे यह विश्वास हो जाता है कि छोटे से छोटा व्यक्ति, ऊंची से ऊंची मंजिल तक पहुंच सकता है।

इसमें आज की सरकारें भी लोगों का साथ देने के लिए विभिन्न प्रकार की पद्धतियां विकसित कर रही हैं। वैसे हम सभी जानते हैं कि सरकारी प्रोसेस इतना जटिल होता है कि कई बार लोग उस में उलझ कर रह जाते हैं। कंपनी रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर तमाम तरह के टैक्सेशन इत्यादि औपचारिकताओं से नया व्यक्ति तो घबरा ही जाता है।

इसे भी पढ़ें: आयकर विवाद निपटाने का स्वर्णिम अवसर देती है 'विवाद से विश्वास योजना'

ऐसे में अपना व्यापार करते समय वह डरा रहता है कि कहीं कानूनी प्रक्रियाएं उसे जकड़ ना लें। उसका यह डर गलत भी नहीं होता, क्योंकि तमाम निर्दोष लोग गवर्नमेंट फॉर्मेलिटीज में फंस जाते हैं, तो कई लोग डर कर दलालों के हाथ में मेहनत की गाढ़ी कमाई दे बैठते हैं।

यूँ तो सरकार हर क्षेत्र में लाल फीताशाही कम कर रही है और कानूनों को आसान बनाती जा रही है, लेकिन उद्योग आधार का रजिस्ट्रेशन उद्यम शुरू करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए वरदान ही है। इसमें ना कोई दलाल का चक्कर ना तो ₹1 लगना है और गवर्नमेंट के साथ जुड़कर आप आसानी से अपने कार्य की शुरुआत कर सकते हैं। इसके लिए सिर्फ और सिर्फ आपको अपने आधार कार्ड की जरूरत होती है और ऑनलाइन आप यह प्रक्रिया खुद ही पूरी कर सकते हैं।

इसके लिए सबसे पहले आपको उद्योग आधार, जो एमएसएमई (MSME) यानि कि Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises डिपार्टमेंट के अंतर्गत आता है, उसकी ऑफिसियल वेबसाइट  http://udyogaadhaar.gov.in/UA/UAM_Registration.aspx पर आपको विजिट करना होगा। 

यहां पर आपको दो बॉक्स मिलेंगे, जिसमें आपको आधार नंबर और संबंधित बिजनेस ओनर का नाम लिखना पड़ेगा। इसके बाद जैसे ही आप वैलिडेट और जेनरेट ओटीपी बटन क्लिक करेंगे, आपके मोबाइल नंबर पर आधार से जुड़ा वन टाइम पासवर्ड आ जाएगा।

इसके बाद आप यहाँ से ओटीपी ले कर डालेंगे जिसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा। इसके बाद आपको जनरल, एससी, एसटी, ओबीसी में से अपना वर्ग चुनना होगा। 

फिर जेंडर और उसके बाद अगर आप दिव्यांग हैं तो उसे चुनना होगा। इसके बाद आपको फिर कंपनी का नाम लिखना होना। 

इसके बाद एक लिस्ट आएगी जिसमें से अपने ऑर्गनाइजेशन की कैटेगरी को चुनना होगा।

अगर आपने पहले से किसी दूसरी कंपनी का पंजीकरण कराया है तो उसकी जानकारी आपको बतानी होगी। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना-संकट में भविष्य निधि कैसे निकालें? जानें इसके नियम

फिर आप अपना पैन डिटेल एंटर करें। 

अगले स्टेप में आपको अपनी कंपनी का एड्रेस डालना होगा, फिर मोबाइल नंबर डालकर आपने किस तारीख को अपना बिजनेस स्टार्ट किया है, उसे सिलेक्ट करें। 

इसके बाद आप अपनी बैंक डिटेल एंटर करें और आप किस प्रकार का बिजनेस कर रहे हैं उस एक्टिविटी को चुनें। 

जैसे अगर आप मैनुफेक्चरिंग कर रहे हैं या सर्विस इंडस्ट्री में काम कर रहे हैं, तो सुविधा के अनुसार आप उसे चुन सकते हैं। अंत में आपको कुछ और डिटेल फील करनी होगी और इस तरीके से आपको उद्योग आधार एक्नॉलेजमेंट रिसिप्ट प्राप्त हो जाएगी। इस तरह से आप उद्योग आधार में पंजीकृत हो जाएंगे।

जरुरी डॉक्युमेंट

उद्योग आधार में रजिस्ट्रेशन के लिए आपके पास आधार कार्ड होना अनिवार्य है जो आपके मोबाइल नंबर से जुड़ा हो। 

इसके आलावा आपके पास कंपनी का अड्रेस प्रूफ और अगर आप जनरल कैटेगरी में नहीं हैं तो जाति प्रमाणपत्र देना होगा। वहीं अपने बैंक अकाउंट की डिटेल भी देनी होगी जिसका प्रयोग आप अपने व्यापर के लिए कर रहे हैं।

यह एक बेसिक प्रक्रिया है जिससे आप गवर्नमेंट के साथ जुड़कर अपने बिजनेस को आगे बढ़ा सकते हैं। कई प्रकार की सरकारी योजनाएं भी आती है जिनका लाभ बाद में आप ले सकते हैं।

- मिथिलेश कुमार सिंह