43 दिन बाद पाकिस्तान सेना ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया को दिखाया बालाकोट मदरसा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 11 2019 10:59AM
43 दिन बाद पाकिस्तान सेना ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया को दिखाया बालाकोट मदरसा
Image Source: Google

समूह का यह दौरा करीब 20 मिनट तक चला और उन्हें तस्वीरें लेने की इजाजत दी गई तथा उनमें से कुछ ने शिक्षकों से बात भी की। सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने संवाददाताओं से औपचारिक एवं अनौपचारिक बातचीत भी की।

इस्लामाबाद। पाकिस्तानी सेना ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया कर्मियों के एक समूह और विदेशी राजनयिकों को बालाकोट के उस मदरसे और उसके आस-पास के इलाके का दौरा कराया जहां भारत ने 43 दिन पहले जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर पर हमला किया था। बीबीसी उर्दू के मुताबिक समूह को एक हेलीकॉप्टर में इस्लामाबाद से बालाकोट के जाबा ले जाया गया। हरे-भरे पेड़ों से घिरे एक पहाड़ के शीर्ष पर स्थित इस मदरसे तक पहुंचने के लिए आगंतुकों को डेढ़ घंटे तक चलना पड़ा।

इसे भी पढ़ें: मोदी की आलोचना करते हुए बोले अब्दुल्ला, अब भी वो एक चायवाले की भाषा बोल रहे

यहां देखें बालाकोट का आखों देखा हाल-

पाकिस्तान की सेना के मुताबिक समूह ने चढ़ाई करते वक्त पहाड़ के ढलान पर एक गड्ढा भी देखा जहां भारतीय विमानों ने विस्फोटक गिराए थे। बीबीसी ने बताया कि जब समूह मदरसे के भीतर पहुंचा तो वहां 12-13 साल के करीब 150 बच्चे मौजूद थे और उन्हें कुरान पढ़ाई जा रही थी।

इसे भी पढ़ें: PML-N प्रमुख शहबाज शरीफ और उनके बेटे पर भ्रष्टाचार के मामले में आरोप तय

समूह का यह दौरा करीब 20 मिनट तक चला और उन्हें तस्वीरें लेने की इजाजत दी गई तथा उनमें से कुछ ने शिक्षकों से बात भी की। सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने संवाददाताओं से औपचारिक एवं अनौपचारिक बातचीत भी की। यह संकेत देते हुए कि भारत के हमले वाला दावा सही नहीं है, उन्होंने कहा, “यह पुराना मदरसा है और हमेशा से ऐसा ही था।” यह उस स्थान पर विदेशी मीडिया एवं राजनयिकों का पहला औपचारिक दौरा था जहां भारत ने हमला कर सैकड़ों आतंकवादियों को मारने का दावा किया था।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video