Matteo Messina Denaro: 30 साल बाद माफिया सरगना की गिरफ्तारी

Matteo Messina Denaro
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
कई हफ्तों से यह अफवाह फैली हुई थी कि डेनारो बीमार था और उसकी कीमोथेरेपी हो रही थी - लेकिन यह जनता के लिए एक आश्चर्य की बात थी कि इटली के सबसे वांछित व्यक्ति का आम नागरिकों के साथ पलेर्मो क्लिनिक में इलाज चल रहा था।

सिसिली के माफिया, कोसा नोस्ट्रा के नेताओं में से एक, माटेयो मेस्सिना डेनारो को आखिरकार 30 साल बाद हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस को पता चला कि पलेर्मो में निजी मड्डालेना क्लिनिक में डेनारो का इलाज चल रहा है, लिहाजा लगभग 100 पुलिस अधिकारियों ने क्लिनिक को घेर लिया और डेनारो पकड़ा गया। कई हफ्तों से यह अफवाह फैली हुई थी कि डेनारो बीमार था और उसकी कीमोथेरेपी हो रही थी - लेकिन यह जनता के लिए एक आश्चर्य की बात थी कि इटली के सबसे वांछित व्यक्ति का आम नागरिकों के साथ पलेर्मो क्लिनिक में इलाज चल रहा था।

वह परीक्षणों के लिए कतार में था जब एक पुलिस अधिकारी ने उससे पूछा कि वह कौन है। उसके साथ खड़े एक सहयोगी ने उसे बचाने की कोशिश की, लेकिन वह आगे आया और बस जवाब दिया मैं माटेयो मेस्सिना डेनारो हूं। जांचकर्ताओं ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि स्वास्थ्य देखभाल की ज़रूरत के चलते अंतत: डेनेरो को पहचानना और पकड़ना संभव हो पाया। 16 जनवरी को डेनारो की गिरफ़्तारी उसके गुरु, टोटो “द बीस्ट” रीना की गिरफ़्तारी के ठीक 30 साल और एक दिन बाद हुई। यह महत्वपूर्ण लगता है कि तीन दशकों तक फरार रहने के बाद, इसी तारीख पर सरकार आखिरकार उसे पकड़ने में कामयाब रही।

इससे यह संकेत मिलता है कि कोसा नोस्ट्रा की आंतरिक व्यवस्था बदल रही है और शायद उन्हीं में से किसी ने उसे छोड़ने का फैसला किया क्योंकि वह उनके लिए अब उतना उपयोगी नहीं रह गया था। डेनारो आखिरी बॉस है जो 1990 के दशक की शुरुआत में कोसा नोस्ट्रा के आतंकवादी हमलों से जुड़े तमाम रहस्यों को जानता है। तो क्या यह कहा जा सकता है कि वह युद्ध के बाद की माफिया पहेली के बिखरे टुकड़ों को जोड़ सकता है। हालांकि, इसकी बहुत संभावना नहीं है, इसलिए जिस किसी को भी इस संबंध में कोई उम्मीद है, वह निराश हो सकता है।

वह कोसा नोस्ट्रा के नेतृत्व का अंतिम ज्ञात चेहरा हैं। जांचकर्ता इस बारे में कम जानते हैं कि वर्तमान नेता कैसे दिखते हैं और अब वह अन्य माफिया संदिग्धों की तलाश करते समय अतिरिक्त सावधानी बरतेंगे। पुराने और नए आकाओं के बीच एक पुल डेनारो पुरानी पीढ़ी के माफिया आकाओं में आखिरी था। वह 1990 के दशक की शुरुआत के जुझारू और प्रत्यक्ष कोसा नोस्ट्रा और 21 वीं सदी के खामोश, व्यापार-जैसे माफिया के बीच अंतिम कड़ी का प्रतिनिधित्व करता है। वह एक माफिया परिवार में पैदा हुआ था और अपनी हिंसा के लिए जाना जाता था।

वह अंतिम माफिया बॉस है जो कोरलियॉन पीढ़ी से जुड़ा है, माफ़ियोसी का एक समूह (रीना और बर्नार्डो प्रोवेनज़ानो के नेतृत्व में) जिसने अनिवार्य रूप से 1990 के दशक की शुरुआत में इटालियन राज्य के खिलाफ युद्ध किया था। यह गिरफ्तारी इतालवी राज्य के लिए एक स्पष्ट जीत है, लेकिन यह पूछा जाना चाहिए कि डेनारो को सिसिली में खोजने में इतना समय क्यों लगा। उसका सुरक्षा घेरा स्पष्ट रूप से टूटना कठिन रहा है। पुलिस धीरे-धीरे उस घेरे की परतों को हटाने में सफल रही है, जो उसे कमजोर बनाते थे - लेकिन इसमें समय लगा।

माफिया नेटवर्क की जांच करते समय इतालवी पुलिस पारंपरिक निगरानी और अधिक आधुनिक डिजिटल और टेलीफोन इंटरसेप्ट दोनों पर भरोसा करने लगी। ये अंततः सफल साबित हुए। कोसा नोस्ट्रा का अंत - या एक नया युग? डेनारो की गिरफ्तारी से कोसा नोस्ट्रा को संकट में डालने वाला रिक्त स्थान उत्पन्न हो सकता है - लेकिन यह माफिया का अंत नहीं है। डेनारो का पतन भी इसके लिए एक बार फिर से उत्परिवर्तित होने, बदलने और नए व्यावसायिक अवसरों के अनुकूल होने का अवसर पैदा कर सकता है, जैसे एक सांप अपनी केंचुली बदलता है।

मेरा मानना ​​है कि यह गिरफ्तारी कोसा नोस्ट्रा के नेतृत्व में बदलाव का प्रतीक है। यह हो सकता है कि डेनारो अब प्रासंगिक या आवश्यक नहीं था। हो सकता है, उसकी उपयोगिता भी समाप्त हो गई हो। कोसा नोस्ट्रा का प्रबंधन करने वाली एक नई पीढ़ी पहले से ही मौजूद होगी। कई लोग अब कोसा नोस्ट्रा को मृत घोषित कर सकते हैं। स्पष्ट रूप से, यह उतना मजबूत नहीं है जितने कि इटली के अन्य मुख्य संगठित अपराध गिरोह - कैलाब्रियन नड्रांगहेटा और नियति कैमोर्रा हैं, लेकिन यह खत्म भी नहीं हुआ है।

डेनारो के पतन के बाद भी, कोसा नोस्ट्रा कार्य करना जारी रखेगा और इतालवी अर्थव्यवस्था और बहुत से अन्य यूरोपीय देशों की अर्थव्यवस्थाओं के लिए सिरदर्द बना रहेगा। इसलिए, इतालवी राज्य और यूरोपीय देशों को माफियाओं और संगठित अपराध समूहों के खिलाफ अपनी लड़ाई लगातार जारी रखनी चाहिए और अपनी सुरक्षा को कभी कम नहीं होने देना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़