श्रीलंका के बाद नेपाल की भी आर्थिक स्थिति खराब, लगातार बढ़ रही महंगाई, बिहार आकर खरीदारी कर रहे लोग

श्रीलंका के बाद नेपाल की भी आर्थिक स्थिति खराब, लगातार बढ़ रही महंगाई, बिहार आकर खरीदारी कर रहे लोग
प्रतिरूप फोटो
ANI

भले ही नेपाल सरकार की ओर से सब कुछ ठीक होने का दावा किया जा रहा है। लेकिन वहां सब कुछ ठीक है नहीं। बढ़ती महंगाई के कारण ही केंद्रीय बैंक के गवर्नर महाप्रसाद अधिकारी को भी सस्पेंड कर दिया गया।

भारत के 2 पड़ोसी देश इस वक्त खराब आर्थिक हालात से जूझ रहे हैं। एक ओर जहां दक्षिण में श्रीलंका है तो वहीं दूसरी और नेपाल है। श्रीलंका के बाद नेपाल की भी आर्थिक स्थिति खराब होती दिखाई दे रही है। जिसकी वजह से वहां भी लगातार महंगाई बढ़ रही है। नेपाल में इस वक्त आर्थिक हालात इतने खराब है कि इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वहां तमाम गैर जरूरी आयात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। भले ही नेपाल सरकार की ओर से सब कुछ ठीक होने का दावा किया जा रहा है। लेकिन वहां सब कुछ ठीक है नहीं। बढ़ती महंगाई के कारण ही केंद्रीय बैंक के गवर्नर महाप्रसाद अधिकारी को भी सस्पेंड कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी पर ट्वीट को लेकर स्वास्थ्य मंत्री सिंह देव ने भाजपा नेता कपिल मिश्रा और दो अन्य के खिलाफ थाने में की शिकायत

इन सबके बीच नेपाल में लगातार महंगाई बढ़ती जा रही है। खाने पीने की चीजों के साथ-साथ कई जरूरी चीजों पर के दाम में बढ़ोतरी देखी गई है। यही कारण है कि नेपाल की सीमा से सटे भारतीय बाजारों में रौनक देखने को मिल रही है। दरअसल, नेपाल के काफी लोग भारत में आकर खरीदारी कर रहे हैं। शैंपू से लेकर खाद्य सामाग्री तक की चीजों के लिए नेपाल के लोग भारतीय बाजारों का रुख कर रहे हैं। नेपाल के लोगों का कहना है कि अभी भी देश में महंगाई को लेकर कुछ खास आश्वासन नहीं दिया जा रहा है। वहां लगातार महंगाई बढ़ रही है। नेपाल में सभी चीजें महंगी बिक रही है और भारतीय बाजारों से दामों में 30 से 50 रुपये का फर्क दिखाई दे रहा है।

इसे भी पढ़ें: नेपाल ने 200 मेगावाट अतिरिक्त बिजली की बिक्री के लिए भारतीय कंपनियों से प्रस्ताव मांगा

नेपाल से सटा एक भारतीय बाजार है जो कि बिहार में है और वह है जोगबनी। जोगबनी में नेपाल के लोग भारी तादाद में आकर खरीदारी कर रहे हैं। चावल, चीनी, दाल, शैंपू, प्याज, कोलगेट जैसी चीजों की खरीदारी करने के लिए नेपाल के लोग लगातार जोगबनी पहुंच रहे हैं। इतना ही नहीं, हरी सब्जियों की कीमत में भी अंतर देखने को मिल रहा है। अगर नेपाल में किसी सब्जी की कीमत 40 रुपये है तो वह जोगबनी में लोगों को सिर्फ 20 रुपये में मिल जा रहा है। यही कारण है कि नेपाल के लोग जोगबनी का रुख कर रहे हैं। एक ग्राहक ने बताया कि आने-जाने में 500 रूपये का खर्च लग रहा है। बावजूद यहां खरीदारी करना सस्ता पड़ रहा है। हालांकि नेपाल के लोगों के खरीदारी से जोगबनी बाजार में रौनक देखने को भी मिल रही है।