कोरोना से प्रभावित देश रूस 24 जून को करेगा सैन्य परेड का आयोजन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   19:35
कोरोना से प्रभावित देश रूस 24 जून को करेगा सैन्य परेड का आयोजन

कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में रूस अमेरिका और ब्राजील के बाद दुनिया में तीसरे स्थान पर है। रूस की राजधानी मास्को में मार्च से ही लॉकडाउन में छूट दी गयी है औरवहां गैर खाद्य स्टोरों, ड्राइ क्लीनर्स और मरम्मत की दुकानों को खोलने की अनुमति दी गयी थी। देश के कुल संक्रमितों में से आधे मामले राजधानी में हैं।

मॉस्को। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप जारी है। ऐसे में भारत में बृहस्पतिवार को एक बार फिर संक्रमण के मामलों में जबरदस्त उछाल देखा गया जबकि रूस में भी लॉकडाउन में धीरे-धीरे ढील देने के कारण संक्रमण के मामलों में लगातार बढ़ोतरी जारी है। रूस में कोरोना वायरस संक्रमण के बृहस्पतिवार को आठ हजार 371 नए मामले सामने आये जिससे देश में वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़कर तीन लाख 79 हजार पर पहुंच गई। कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में रूस अमेरिका और ब्राजील के बाद दुनिया में तीसरे स्थान पर है। रूस की राजधानी मास्को में मार्च से ही लॉकडाउन में छूट दी गयी है और वहां गैर खाद्य स्टोरों, ड्राइ क्लीनर्स और मरम्मत की दुकानों को खोलने की अनुमति दी गयी थी। देश के कुल संक्रमितों में से आधे मामले राजधानी में हैं। शहर के महापौर ने भी घोषणा की कि लोगों को कुछ प्रतिबंधों के साथ सुबह में पार्क में जाने तथा खेल गतिविधियों में हिस्सा लेने की अनुमति दी गयी है।

इसे भी पढ़ें: कौन है भारतीय मूल की सीमा वर्मा जिसकी डोनाल्ड ट्रंप कर रहे है प्रशंसा

इस सप्ताह की शुरुआत में रूस के राष्ट्रपति व्लादामीर पुतिन ने घोषणा की थी कि रूस 24 जून को द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मनी की हार को लेकर मनायी जाने वाली सैन्य परेड का आयोजन करेगा जबकि वायरस के मामलों के मद्देनजर पहले इसे स्थगित करने की योजना थी। रूस के विदेश मंत्रालय ने कहा कि आयोजन में शिरकत करने के लिए फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों समेत विश्व के अन्य नेताओं को न्योता दिया जाएगा। वहीं, पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लेने वाले कोरोना वायरस ने अमेरिका में सबसे भयंकर तबाही मचायी है, जहां इस वायरस के संक्रमण के कारण जान गंवाने वाले लोगों की संख्या एक लाख को पार कर गई है। अमेरिका में एक तिहाई लोगों की मौत दुनिया की वित्तीय राजधानी माने जाने वाले न्यूयॉर्क, उसके नजदीकी इलाके न्यूजर्सी और कनेक्टिकट में हुई हैं। अमेरिका में लास वेगास के जुआघर और वाल्ट डिज्नी वर्ल्ड को भी दोबारा खोले जाने की योजना बनायी जा रही है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा एक लाख के पार, न्यूयॉर्क मेंं सबसे अधिक मौतें

इस बीच, भारत में पिछले 24 घंटे में 194 और लोगों की मौत हो जाने से बृहस्पतिवार सुबह आठ बजे तक इस घातक बीमारी से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 4,531 हो गई और संक्रमण के 6,566 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1,58,333 हो गई। यह उछाल ऐसे में देखे जा रहा है, जब आने वाले रविवार को लगभग दो महीने से लागू देशव्यापी लॉकडाउन का चौथा चरण समाप्त होने वाला है। ऐसी संभावना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार नए दिशा-निर्देश के साथ लॉकडाउन को विस्तार दे सकती है। इस महीने की शुरुआत में भारत में दोबारा दुकानों को खोलने के साथ ही व्यापारिक प्रतिष्ठानों को भी तय नियमों के साथ काम शुरू करने की अनुमति दी गयी थी। साथ ही कुछ विशेष ट्रेनों और घरेलू यात्री उड़ानों को भी चरणबद्ध तरीके से शुरू किया गया है। दक्षिण कोरिया में पिछले 50 दिन में बृहस्पतिवार को सबसे ज्यादा कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं।

इसे भी पढ़ें: भारत-चीन के बीच बढ़ते तनाव पर बोले ट्रंप- हम मध्यस्थता के लिए तैयार हैं

 नए मामले चिंता का विषय है क्योंकि इससे देश के कठिन प्रयासों पर पानी फिर सकता है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि संक्रमण के उभरते मामलों का पता लगाना मुश्किल है और सामाजिक दूरी समेत अन्य तरह के कदम उठाए जाने की जरूरत है। कोरिया बीमारी नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र ने कहा कि नए 79 मामलों में से 67 सियोल मेट्रोपॉलिटन क्षेत्र से है। दक्षिण कोरिया की कुल 5.1 करोड़ आबादी में से आधी आबादी यहीं रहती है। वहीं, कुछ अन्य देशों में कुछ सुधार देखने को मिला है। स्पेन और इटली में पिछले दो महीने में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों में कमी देखी जा रही है। इसी तरह, चीन में बृहस्पतिवार को केवल दो मामले सामने आए जो विदेश से आए लोग हैं। न्यूजीलैंड में पिछले छह दिन से कोई संक्रमित सामने नहीं आया है और अब वहां कोविड-19 के केवल आठ मरीज का इलाज चल रहा है। जॉन हॉप्किंस विश्वविद्यालय के आंकड़ों के मुताबिक, पूरे विश्व में अब तक 57 लाख से अधिक लोग इस घातक वायरस की चपेट में आ चुके हैं जबकि 355,000 से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।