ट्रंप प्रशासन ने अपनाया कड़ा रुख, DACA के तहत नयी अर्जियां स्वीकार नहीं करेगा अमेरिका

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 29, 2020   16:00
ट्रंप प्रशासन ने अपनाया कड़ा रुख, DACA के तहत नयी अर्जियां स्वीकार नहीं करेगा अमेरिका

ट्रंप प्रशासन ने कहा कि डीएसीए के तहत नयी अर्जियां स्वीकार नहीं करेंगे।होमलैंड सुरक्षा मंत्री चाड वुल्फ ने कहा कि प्रशासन ‘डेफर्ड एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल्स’ कार्यक्रम को फिर से खत्म करने की कोशिश कर सकता है जो कानून प्रवर्तन का एक मुद्दा है जिससे अवैध आव्रजन को बढ़ावा मिल सकता है।

शिकागो। ट्रंप प्रशासन ने मंगलवार को कहा कि ओबामा काल के उस कार्यक्रम के लिए नयी अर्जियां मंजूर नहीं करेगा और नवीनीकरण की अवधि को कम करेगा जिसमें युवाओं को उनके मूल देश वापस भेजने से सुरक्षा मिलती है। इस कार्यक्रम को पूरी तरह से निरस्त करने से उच्चतम न्यायालय के इनकार के बाद ट्रंप प्रशासन ने यह कड़ा रुख अपनाया है। होमलैंड सुरक्षा मंत्री चाड वुल्फ ने कहा कि प्रशासन ‘डेफर्ड एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल्स’ कार्यक्रम को फिर से खत्म करने की कोशिश कर सकता है जो कानून प्रवर्तन का एक मुद्दा है जिससे अवैध आव्रजन को बढ़ावा मिल सकता है। उन्होंने कहा कि संघीय सरकार को अगले कदमों पर विचार करने के लिए और वक्त चाहिए। करीब 6,50,000 लोग डीएसीए का हिस्सा है जिससे बचपन में गैरकानूनी तरीके से देश में आए युवा आव्रजकों को काम करने की मंजूरी तथा उन्हें उनके देश प्रत्यर्पित किए जाने से सुरक्षा मिलती है।

इसे भी पढ़ें: ट्रम्प ने hydroxychloroquine के इस्तेमाल का फिर किया बचाव कहा- ‘‘मुझे इस दवा पर है विश्वास

सरकार इस कार्यक्रम के तहत सभी नयी अर्जियों को खारिज करेगी, नवीनीकरण की अवधि दो के बजाय घटाकर एक साल करेगी और डीएसीए प्राप्तकर्ताओं के उनके अपने देश की यात्रा करने के अनुरोधों को खारिज करेगी। केवल ‘‘असाधारण परिस्थितियों’’ में ही उन्हें अपने देश जाने की अनुमति दी जाएगी। उच्चतम न्यायालय ने पिछले महीने फैसला दिया था कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस कार्यक्रम को समाप्त करने की कोशिश करते समय प्रक्रियाओं का पालन करने में नाकाम रहे। व्हाइट हाउस डीएसीए को खत्म करने के लिए अन्य योजनाएं बना रहा है। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि क्या वह नवंबर में होने वाले चुनाव से पहले राजनीतिक रूप से संवेदनशील कदम उठाएंगे। डेमोक्रेटिक पार्टी के उनके प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन बिना किसी शर्त के डीएसीए को बरकरार रखना चाहते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।